मध्य प्रदेश सरकार ने 5 संतो को बनाया राज्य मंत्री, काफ़ी चर्चाओं में है यह बाबा

0
167
BABA COMPUTER

मध्य प्रदेश में चुनावी दौर शुरू हो चुका है जिसमे पांच संतो को राजयमंत्री का दर्जा दिया गया। मध्यप्रदेश सरकार के इस फैसले के अलग-अलग व्यक्तियों के द्वारा बहुत सारे अलग-अलग मायने निकले जा रहे हैं। बता दें ऐसा पहली बार है जब संतों को राजयमंत्री का दर्जा दिया गया है और जिन संतो को यह दर्जा दिया गया है उनमे कुछ चर्चिंत चेहरे जैसे कम्प्यूटर बाबा, भय्यू महाराज शामिल हैं।

कम्प्यूटर बाबा:-                                                                                                                                                                                सबसे पहले अगर बात स्वामी नामदेव उर्फ़ कम्प्यूटर बाबा की करें तो यह बाबा दिमाग के बहुत तेज़ हैं हर बात याद रखते हैं जिसके चलते लोगों ने उनका नाम कम्प्यूटर बाबा रखा है आम संतो से अलग हमेशा इनके हाथों में एक लेपटॉप रहता है साथ ही इन्हे लेटेस्ट गैजेट्स का भी काफी शौक है। बाबा के पास हमेशा नेटवर्क के लिए डोंगल, मोबाइल, टेब और एक हेलीकॉप्टर साथ रहता है। साल 2013 में कम्प्यूटर बाबा अचानक चर्चाओं में आ गए जब उन्होंने हेलीकॉप्टर से कुम्भ के मेले में आने की अनुमति मांगी थी।

भय्यू महाराज:-                                                                                                                                                                                अगर बार भय्यू महाराज की करें तो उनका असल नाम उदय सिंह देशमुख है यह महाराज अपने अजीबो-गरीब जीवन शैली के लिए काफी प्रसिद्ध हैं। बात अगर इनके विलासिता और शानो शौकत की करें तो इनके पास वाइट मर्सिडीज़ है और यह जहां भी जाते हैं इनके साथ पूरा काफिला साथ जाता है। बहुत से दिग्गज नेता और बिजनेसमैन इनके साथ जुड़े हुए हैं धार्मिक जानकारी के लिए यह काफी ज्ञानी सलाहकार हैं

स्वामी हरिहरानंद,बाबा योगेंद्र महंत:-                                                                                                                                                                                वहीं अगर बात स्वामी हरिहरानंद की करें तो इन्होने नर्मदा संरक्षण पर काफी काम किया है। बता दें वर्ष 2016 से 2017 में अमरकंटक से शुरू हुई यात्रा 144 दिनों तक चली थी। बाबा योगेंद्र महंत को भी राज्य मंत्री बनाने का फैसला लिया गया है। यह नर्मदा घोटाला रथ यात्रा के संचालक थे इन्होने बीजेपी के ख़िलाफ़ मोर्चा निकलने की बात कही थी क्योंकि नर्मदा के विकास, सफाई, और हरियाली प्रोजेक्ट पर काफी बड़ा घोटाला हुआ था। और अंत में नामी संतो में से एक नर्मदानंद हनुमान जयंती और राम नवमी पर हर साल शोभा यात्रा निकलते हैं। इन्होने पिछले साल भी शोभायात्रा निकली थी जो काफी धूमधाम से मनाई गई थी।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here