महाराष्ट्र सरकार गठन को लेकर आज सोनिया गाँधी से मिलेंगे शरद पवार

रविवार की शाम NCP प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) के पुणे स्थित आवास पर पार्टी की कोर कमिटी की बैठक गई। इस बैठक में सरकार गठन को लेकर कई अहम बिंदुओं पर चर्चा हुई।

0
394

Maharashtra: महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर रविवार को दिल्ली में NCP प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) की कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के साथ भी अहम बैठक होने वाली थी, जोकि टल गई। बताया जा रहा है कि यह बैठक सोमवार को होगी। वहीं दूसरी ओर सोमवार को ही कांग्रेस की शिवसेना के साथ भी बैठक होनी है।

इस बीच रविवार की शाम NCP प्रमुख शरद पवार (Sharad Pawar) के पुणे स्थित आवास पर पार्टी की कोर कमिटी की बैठक गई। इस बैठक में सरकार गठन को लेकर कई अहम बिंदुओं पर चर्चा हुई। अब, सबकी नजर सोमवार को होने वाली बैठकों पर है।

बताया जा रहा है कि पवार और सोनिया (Sonia Gandhi) के बीच बैठक के बाद राज्य में नई सरकार के गठन के बारे में अंतिम मुहर लग सकती है। चर्चा है कि तीनों पार्टियों यानी शिवसेना-NCP और कांग्रेस के बीच मंत्रालयों को लेकर न्यूनतम साझा पत्र तैयार हो चुका है।

बैठक के बाद NCP प्रवक्ता नवाब मलिक (Nawab Malik) ने कहा कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन खत्म होना चाहिए और वैकल्पिक सरकार का गठन होना चाहिए। उन्होंने कहा कि सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और एनसीपी प्रमुख शरद पवार की बैठक में अगला निर्णय लिया जाएगा।

वहीं, पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी गठबंधन के प्रयास में हैं। सोमवार को शिवसेना के साथ हमारी कांग्रेस की बैठक है। इस बैठक में तय होगा कि हम साथ आएं या नहीं।

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में राजनीतिक दलों की स्थिति

राजनीतिक पार्टी सीटें
भाजपा 105
शिवसेना 56
एनसीपी 54
कांग्रेस 44
बहुजन विकास अघाड़ी 03
एआईएमआईएम 02

इससे पहले खबरें आ रही थी कि भाजपा से छिटकी शिवसेना का कांग्रेस और एनसीपी के साथ तालमेल नहीं बैठ पाया है तो वहीं दूसरी ओर एनडीए के कुछेक नेताओं को शिवसेना के वापस लौट आने की उम्मीद है।

केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने रविवार को कहा कि उन्होंने भाजपा अध्यक्ष अमित साह से इस बारे में बात की है कि यदि वह मध्यस्थता करें तो रास्ता निकल सकता है। अठावले के अनुसार, अमित शाह ने उन्हें कहा है कि चिंता न करें, सबकुछ ठीक होगा। सरकार बनाने के लिए भाजपा और शिवसेना साथ आएगी।

मालूम हो कि महाराष्ट्र में गठन नहीं हो पाने की स्थिति में 12 नवंबर को राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया था। विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद मुख्यमंत्री पद के मुद्दे को लेकर भाजपा और शिवसेना का गठबंधन टूट गया था। इसके बाद नए सियासी समीकरण में शिवसेना के कांग्रेस और एनसीपी के साथ आने की चर्चा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here