Maha Politics – सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे कांग्रेस के बड़े नेता, शिवसेना को समर्थन पर फैसला

सोनिया गांधी ने शरद पवार को आगे बढ़ने की स्वीकृति दे दी है। ऐसे में उद्धव ठाकरे बेटे आदित्य ठाकरे को साथ लेकर पवार से मिलने के लिए उनके घर पहुंच गए हैं।

0
297

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर सियासी खींचतान जारी है। इस बीच NCP ने शिवसेना का समर्थन करने की बात कही है, हालांकि ऐसा करने से पहले वह कांग्रेस पार्टी के फैसले का इंतजार कर रही है। NCP का कहना है कि कांग्रेस जो भी फैसला करेगी उसके मुताबिक ही वह अपना रुख तय करेगी।

खबरें हैं कि सोनिया गांधी ने शरद पवार को आगे बढ़ने की स्वीकृति दे दी है। ऐसे में उद्धव ठाकरे बेटे आदित्य ठाकरे को साथ लेकर पवार से मिलने के लिए उनके घर पहुंच गए हैं। वहीं NCP के सभी विधायक शिवसेना को समर्थन देने के लिए तैयार हैं। यदि ऐसा होता है तो सरकार न्यूनतम साझा कार्यक्रम के तहत चलाई जाएगी।

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) नेता नवाब मलिक ने सोमवार को एक प्रेसवार्ता कर कहा कि NCP सरकार बनाने में शिवसेना का समर्थन करने को तैयार है। कांग्रेस की शाम चार बजे दूसरी बैठक होने वाली है, उसमें जो भी निर्णय होगा, उसके मुताबिक NCP अपना फैसला लेगी।

इससे पहले शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) सरकार बनाने को लेकर चर्चा के लिए उद्धव ठाकरे के घर पहुंचे थे। इससे पहले रविवार को भाजपा ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करके सरकार बनाने से मना कर दिया था। इसके बाद राज्यपाल ने दूसरा बड़ा दल होने के नाते शिवसेना को सरकार बनाने का न्योता दिया था। सूत्रों के मुताबिक, शिवसेना के समर्थन के लिए NCP और कांग्रेस न्यूनतम साझा कार्यक्रम से लेकर तमाम संभावनाओं पर बात कर रही हैं। माना जा रहा है शिवसेना-एनसीपी मिलकर सरकार बनाती है तो अजित पवार को उप-मुख्यमंत्री की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है।

सोमवार को शिवसेना के कोटे से केंद्र सरकार में भारी उद्योग और सार्वजनिक उद्यम मंत्री का पदभार संभालने वाले अरविंद सावंत (Arvind Sawant) ने पद से इस्तीफा देने का एलान कर दिया है। उन्होंने कहा कि मैं अपने मंत्री पद से इस्तीफा दे रहा हूं।

सावंत ने अपने Twitter पर लिखा, ‘लोकसभा चुनाव से पहले सरकार गठन को लेकर एक फॉर्मूला तय हुआ था। लेकिन अब इस फॉर्मूले को मना किया जा रहा है। भाजपा ने झूठ की जरिए महाराष्ट्र में काफी प्रगति की। शिवसेना हमेशा सच के साथ खड़ी होती है। इतने झूठे माहौल में दिल्ली सरकार में क्यों रहना? इसीलिए मैं केंद्रीय मंत्री के पद से इस्तीफा दे रहा हूं। मैं दिल्ली में आज सुबह 8.30 बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करूंगा।’

आदित्य के साथ उद्धव ठाकरे पवार से मिलने के लिए उनके घर जा रहे हैं। वहीं NCP के सभी विधायक सत्ता और कांग्रेस के 40 विधायक सरकार में शामिल होना चाहते हैं। यदि शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी की सरकार बनती है तो शिवसेना के पास 16, एनसीपी के पास 14 और कांग्रेस के पास 12 मंत्री पद हो सकते हैं। सरकार बनाने के लिए एनसीपी का समर्थन पत्र तैयार है। जिसमें सभी NCP विधायकों के हस्ताक्षर हैं।

अंतिम फार्मूले पर सोनिया और शरद के बीच चर्चा होनी है। उद्धव से चर्चा के बाद शरद पवार सोनिया गांधी से बात करेंगे। मुख्यमंत्री पद शिवसेना के पास रहेगा। ऐसे में वह जिसे चाहे मुख्यमंत्री बनाने के लिए स्वतंत्र है। सरकार न्यूनतम साझा कार्यक्रम के तहत चलेगी। दस जनपथ पर चल रही सोनिया, अहमद पटेल, वेणुगोपाल, एके एंटोनी की कोर ग्रुप की बैठक में न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर चर्चा चल रही है जिसकी चार बजे CWC की बैठक में दोबारा मंजूर करके घोषणा की जाएगी।

NCP नेता नवाब मलिक ने सोमवार को एक प्रेसवार्ता में यह भी कहा कि सरकार बनाना हमारी जिम्मेदारी है। हमारा जो भी फैसला होगा कांग्रेस से बात करके ही होगा। अभी तक NCP ने कोई फैसला नहीं किया है। विधायक चाहते हैं कि शिवसेना के साथ सरकार बने। NCP सरकार बनाने के लिए तैयार है। शाम चार बजे के बाद ही तस्वीर साफ हो पाएगी। हमने साथ मिलकर चुनाव लड़ा था इसलिए फैसला भी मिलकर ही करेंगे।

शरद पवार ने शिवसेना सांसद के केंद्रीय कैबिनेट से इस्तीफे को लेकर कहा, ‘मेरी किसी के इस्तीफे लेकर किसी के कोई बात नहीं हुई है। हम आज कांग्रेस से बात करेंगे। जो भी निर्णय लिया जाएगा वो कांग्रेस के साथ बातचीत के बाद ही होगा।’

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के लिए अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल और मल्लिकार्जुन खड़गे पहुंच गए हैं। यह बैठक महाराष्ट्र की राजनीतिक स्थिति को लेकर हो रही है

जनता दल (सेकुलर) के प्रमुख और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने महाराष्ट्र के बारे में कहा है कि अगर कांग्रेस शिवसेना को समर्थन देती है, तो उन्हें उन्हें अगले पांच सालों तक परेशान नहीं करना चाहिए। तभी लोग कांग्रेस पर भरोसा करेंगे।

उन्होंने कहा, बालासाहेब ने महाराष्ट्र में भाजपा को जगह दी, आडवाणी और वाजपेयी बाला साहेब के आवास पर गए और उनसे सीटों के लिए अनुरोध किया। भाजपा ने इस बात का फायदा उठाया इसीलिए उद्धव ठाकरे ने स्टैंड लिया कि वह उन्हें सबक सिखाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here