हिंसा, आगजनी और पथराव के बाद वापस लिया मराठा आरक्षण आंदोलन

0
268

औरंगाबाद में मराठा आरक्षण की मांग कर रहे एक प्रदर्शनकारी की आत्महत्या के बाद बुलाए गए राज्यव्यापी बंद को वापस ले लिया गया है। मराठा क्रांति मोर्चा ने यह बंद बुलाया था और दिन भर हुए हिंसक प्रदर्शनों के बाद इसे वापस लेने का फैसला किया गया। मोर्चा के संजोजक नरेंद्र पवार ने कहा कि हम बंद वापस ले रहे हैं। हमारी अपील है कि ठाणे, नवी मुंबई और दूसरे शहरों में भी बंद वापस लिया जाए। प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के पीछे राजनीतिक साजिश है। मोर्चा ने मांग की थी कि मराठा समुदाय को आगे लाने के लिए पिछड़ा वर्ग के तहत सरकारी नौकरियों और शिक्षा में 16 फीसदी आरक्षण दिया जाए।

इससे पहले मुंबई, नवी मुंबई, ठाणे, पालघर, नासिक और रायगढ़ में प्रदर्शन के दौरान पथराव और आगजनी की घटनाएं सामने आई। प्रदर्शनकारियों ने मुंबई- पुणे एक्सप्रेस- वे पर ट्रैफिक रोक दिया और कई इलाकों में बाजार नहीं खुलने दिया।

मराठा आंदोलन का बुधवार को ठाणे में सबसे ज्यादा असर देखने को मिला। प्रदर्शनकारियों ने यहां लोकल ट्रेनों को रोक दिया। इससे करीब आधा घंटा ट्रेनों की आवाजाही पर असर पड़ा। प्रदर्शनकारियों ने यहां के कई इलाकों में बाजारों को जबरन बंद करा दिया। ठाणे से सटे नवी मुंबई के घंसोली में प्रदर्शनकारियों ने सड़क जाम कर दो बसों पर पथराव किया, जिसके बाद ऐरोली से वाशी के बीच बेस्ट बस की सेवा रोक दी गई। कल्याण के कई निजी स्कूलों ने बुधवार को छुट्टी घोषित कर दी।

निरंजन कुमार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here