महात्मा गांधी पर विवादित Tweet कर फंसी IAS निधि चौधरी।

निधि चौधरी (Nidhi Chaudhary) ने महात्मा गांधी को लेकर एक Tweet किया था जिसके बाद NCP, Congress ने उनकी बर्खास्तगी का मुद्दा उठाया।

0
233

महाराष्ट्र कैडर में 2012 बैच की आईएएस निधि चौधरी (Maharashtra Cadre 2012 Batch IAS, Nidhi Chaudhary) अपने एक Tweet से विवादों में घिरती जा रही हैं। महात्मा गांधी पर किए गए उनके Tweet पर अब राज्य सरकार ने उनसे जवाब मांगा है।

निधि चौधरी (Nidhi Chaudhary) ने महात्मा गांधी को लेकर एक Tweet किया था जिसके बाद NCP, Congress ने उनकी बर्खास्तगी का मुद्दा उठाया। विवाद बढ़ता देख निधि ने अपना Tweet भी डिलीट कर दिया था। निधि मुंबई म्यूनिसिपल में (विशेष) ज्वाइंट कमिश्नर हैं। उन्होंने अपने Tweet में लिखा था कि ‘गांधी की 150 सालों की जयंती मनाना बेतुका है। यही मौका है जब हम उनका (गांधी) चेहरा नोटों से हटा दें। दुनिया की सभी जगहों से उनकी मूर्तियां हटा दें। उनके नाम पर बने संस्थानों और सड़कों का नाम बदल दें। यह एक वास्तविक श्रद्धांजलि होगी।’

निधि चौधरी (Nidhi Chaudhary) ने अपने Tweet में कुछ और भी बातें लिखी थीं। जिससे उनका Tweet विपक्ष के निशाने पर आ गया था। निधि ने आगे लिखा,‘थैंक यू गोडसे 30.1.48 के लिए। इस Tweet के अंत में उन्होंने एक क्राइंग इमोजी लगा दी थी।’ निधि ने यह Tweet 17 मई को किया था। इससे पहले वे खुद को सीता और द्रौपदी जैसे अनुभव से गुजरने वाली महिला भी बता चुकी हैं।

विवाद बढ़ने पर निधि ने Tweet डिलीट किया और कहा,‘17 मई को गांधी जी पर की गई पोस्ट मैंने डिलीट कर दी है। कुछ लोग गलत मतलब निकाल रहे हैं। कई लोग मुझे साल 2011 से Twitter पर फॉलो कर रहे हैं। वे बापू के लिए मेरी श्रद्धा को जानते हैं। मैंने कभी उनका अपमान नहीं किया। मैं आखिरी सांस तक उनका सम्मान करती रहूंगी।’

विवाद के बाद बृहन्मुंबई महानगरपालिका की उप निगमायुक्त निधि चौधरी ने शनिवार को कहा कि Tweet व्यंग्यात्मक था और उसकी गलत व्याख्या की गई है। विवादित Tweet को डिलीट कर दिया गया है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने महात्मा गांधी के लिए ‘अपमानजनक’ Tweet और गोडसे का ‘‘महिमामंडन’’ करने को लेकर अधिकारी को निलंबित करने की मांग की।

शनिवार को राकांपा नेता जितेन्द्र अवहद ने चौधरी को निलंबित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। आलोचनाओं के बाद चौधरी ने दावा किया कि महात्मा गांधी की आत्मकथा उनकी सबसे पसंदीदा पुस्तक है और उनके ट्वीट को ‘गलत समझा’ गया है।

उन्होंने शनिवार को फिर से Tweet किया, ‘जिन्होंने मेरे 17-05-2019 के Tweet को गलत समझा है, उन्हें मेरी टाइम लाइन देखनी चाहिए। पिछले कुछ महीने के Tweet भी अपने आप में पर्याप्त हैं। मैं व्यंग्य के साथ लिखे इस Tweet को गलत तरीके से समझे जाने से बहुत दुखी हूं।’

चौधरी ने लिखा है, ‘मैं कभी गांधी जी का अपमान नहीं करूंगी। गांधी जी हमारे राष्ट्रपिता हैं और 2019 में हम सभी को देश को बेहतर बनाने के लिए कुछ करना चाहिए। आशा करती हूं कि मेरे Tweet को गलत समझने वाले लोग उसमें निहित व्यंग्य को समझेंगे।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here