Maha Politics: हम अकेले नहीं ले सकते हैं फैसला – अजित पवार

आज सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और शरद पवार (Sharad Pawar) की बातचीत होगी जिसमें अंतिम फैसला आ सकता है।

0
245

Maharashtra- महाराष्ट्र में सोमवार को दिनभर चली सियासी उठापटक के बावजूद सरकार गठन का पेंच और उलझ गया है। आज सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) और शरद पवार (Sharad Pawar) की बातचीत होगी जिसमें अंतिम फैसला आ सकता है।

BJP से अलग राह चुनने वाले आदित्य ठाकरे कल शाम को राज्यपाल से मिले लेकिन बहुमत का जरूरी आंकड़ा (145 विधायकों का समर्थन) पेश नहीं कर सके। अब बड़ा सवाल यह है कि क्‍या शिवसेना NCP को सरकार बनाने के लिए अपना समर्थन देगी। यदि शिवसेना ऐसा नहीं करती है तो राज्‍यपाल के पास राष्‍ट्रपति शासन का विकल्‍प ही बचेगा।

राज्यपाल ने तीसरी बड़ी पार्टी NCP को सरकार बनाने का प्रस्ताव दिया है। NCP प्रवक्‍ता नवाब मलिक ने बताया कि राज्‍यपाल के प्रस्ताव पर उनकी पार्टी कांग्रेस से बातचीत के बाद ही फैसला करेगी।

महाराष्‍ट्र NCP अध्‍यक्ष जयंत पाटिल ने कहा कि NCP मंगलवार शाम 8.30 बजे तक राज्यपाल से मिलकर उन्‍हें अपने फैसले से अवगत करा देगी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल, महासचिव और प्रदेश प्रभारी मल्लिकार्जुन खड़गे और केसी वेणुगोपाल मंगलवार को मुंबई में NCP प्रमुख शरद पवार से मिलेंगे। इनकी शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से भी मुलाकात हो सकती है।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने कल सोनिया गांधी और शरद पवार से समर्थन मांगा। यही नहीं उन्‍होंने खुद NCP प्रमुख शरद पवार और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से बात की। वह पवार से मिलने के लिए एक पंच सितारा होटल तक गए। इस बीच पवार ने कहा कि उद्धव ने अभी खुद ही जवाब नहीं दिया है फ‍िर हम आगे कैसे बढ़ सकते हैं। देर शाम राज्यपाल से मिलने के बाद आदित्य ठाकरे बोले कि हमने राज्यपाल से और वक्त मांगा था। वहीं, राज्यपाल ने बयान जारी कर कह दिया कि शिवसेना समर्थन पत्र जमा ही नहीं कर सकी।

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने सोमवार को दो बार पार्टी नेताओं के साथ बैठक की। देर शाम खबर आई कांग्रेस शिवसेना को बाहर से समर्थन दे सकती है लेकिन महाराष्ट्र प्रभारी मल्लिकार्जुन खड़गे ने साफ कर दिया कि NCP के साथ चर्चा बाकी है इसलिए फैसला नहीं हो पाया है। वहीं जल्‍दबाजी में केंद्र में भारी उद्योग मंत्री एवं शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने सोमवार को NDA गठबंधन सरकार से इस्तीफा दे दिया। कुल मिलाकर शिवसेना बैकफुट पर है। उसके सरकार बनाने का सपना टूटता दिख रहा है, वहीं भाजपा से भी उसकी राहें अलग हो गई हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here