मनीष तिवारी का BJP पर निशाना- सावरकर को नहीं, सीधे नाथूराम गोडसे को दें भारत रत्न

मनीष तिवारी ने कहा, 'सावरकर पर केवल महात्मा गांधी की हत्या की साजिश रचने का आरोप था, सावरकर की जगह सीधे गोडसे को भारत रत्न से सम्मानित करना चाहिए'

0
324

कांग्रेस नेता मनीष तिवारी (Manish Tewari) ने बुधवार को महाराष्ट्र चुनाव (Maharashtra Assembly Election) के लिए भाजपा के घोषणापत्र में भारत रत्न के लिए विनायक दामोदर सावरकर (Vinayak Damodar Savarkar) के नाम को आगे बढ़ाने के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) पर तंज कसा है. उन्होंने कहा है कि पार्टी को सीधे नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) को भारत रत्न से सम्मानित करना चाहिए.

नागपुर में मीडिया से बात करते हुए मनीष तिवारी (Manish Tewari) ने कहा, ‘सावरकर पर केवल महात्मा गांधी की हत्या की साजिश रचने का आरोप था, जबकि नाथूराम गोडसे ने हत्या को अंजाम दिया था. इस वर्ष हम महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती मना रहे हैं, इस अवसर पर NDA सरकार को सावरकर की जगह सीधे गोडसे को भारत रत्न से सम्मानित करना चाहिए’

महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी करते हुए महाराष्ट्र भाजपा ने हिन्दुत्व के पैरोकार सावरकर और 19वीं सदी के समाज सुधारक ज्येातिबा फुले तथा उनकी पत्नी सावित्रीबाई फुले को भारत रत्न दिए जाने की मांग उठाई थी.

इससे पहले बुधवार को कांग्रेस नेता राशिद अल्वी (Rashid Alvi) ने भी सावरकार को भारत रत्न से सम्मानित करने का जिक्र करने पर भाजपा पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि अब अगला नाम नाथूराम गोडसे हो सकता है. अल्वी ने कहा था, ‘सावरकर के इतिहास को हर कोई जानता है. सावरकर पर गांधी की हत्या का आरोप था, सबूतों के अभाव के कारण उन्हें छोड़ दिया गया था. आज, यह सरकार कह रही है कि वे सावरकर को भारत रत्न देंगे, मुझे डर है कि अगली पंक्ति में गोडसे हो सकते हैं.’

चुनावी घोषणापत्र में विनायक दामोदर सावरकर को भारत रत्न देने की मांग उठाए जाने को उचित ठहराते हुए केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बुधवार को कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा था कि वह इस तरह के ‘राष्ट्रभक्तों’ को सर्वोच्च नागरिक सम्मान देने का विरोध कर रही है. प्रसाद ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह भी आरोप लगाया कि कांग्रेस यह सुनिश्चित कर रही है कि केवल ‘‘परिवार के सदस्यों” को ही सर्वोच्च नागरिक सम्मान मिले.

प्रसाद ने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल और दलित आदर्श बाबासाहेब आंबेडकर को पहले भारत रत्न नहीं दिया था. उन्होंने कहा, ‘इन दोनों नेताओं को (मरणोपरांत) तब सर्वोच्च नागरिक सम्मान दिया गया जब नरसिंह राव देश के प्रधानमंत्री थे, जो परिवार से ताल्लुक नहीं रखते थे.’ प्रसाद ने पूछा, ‘सावरकर को भारत रत्न देने की मांग भाजपा द्वारा अपने घोषणापत्र में उठाए जाने से कांग्रेस क्यों परेशान है? कांग्रेस हमेशा परिवार में ही ‘भारत रत्न’ जुटाती रही.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here