तेलुगु देशम पार्टी का अविश्वास प्रस्ताव

0
361

शुक्रवार को तेलुगु देशम पार्टी ने मोदी सरकार के खिलाफ लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव पेश किया। टीडीपी की तरफ से अविश्वास प्रस्ताव पेश करते हुए सांसद जयदेव भल्ला ने कहा कि मोदी सरकार ने आंध्र प्रदेश से किए वादे को पूरा नहीं किया। यह आंध्र प्रदेश के लोगों का मोदी सरकार के खिलाफ धर्म युद्ध है और हम उन्हें श्राप देते हैं। उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश से धोखा हुआ तो बीजेपी खत्म हो जाएगी।

टीडीपी ने अविश्वास प्रस्ताव पेश करते हुए उन विपक्षी दलों का शुक्रिया कहा जिन्होंने अपना समर्थन दिया। टीडीपी ने कहा कि हम अपने लोगों के खाते में 15 लाख रुपये नहीं बल्कि आंध्र प्रदेश का हक मांग रहे हैं। विपक्षी दल पीएम के उस भाषण को लेकर अक्सर निशाना साधते रहते हैं जिनमें उन्होंने कालाधन आने पर सबके खाते में 15 लाख रुपये जाने की बात कही थी। टीडीपी सांसद ने कहा कि आंध्र प्रदेश का जब विभाजन हुआ तो नया राज्य तेलंगाना नहीं बल्कि आंध्र प्रदेश ही बना। उन्होंने कहा कि राज्य बंटवारे के बाद सारे संसाधन तेलंगाना के पास चले गए और आंध्र प्रदेश पर कर्ज का बोझ पड़ गया। हालांकि उनकी इस बात पर तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) के सदस्यों ने हंगामा कर दिया।

टीडीपी सांसद जयदेव भल्ला ने कहा कि 2014 में तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह ने राज्यसभा में आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा देने की बात कही थी। उन्होंने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि चुनावों के दौरान पीएम मोदी ने भगवान तिरुपति के सामने पांच नहीं बल्कि 10 साल के स्पेशल स्टेट्स का वादा किया था लेकिन वादा पूरा नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि आंध्र प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में 10 साल के विशेष दर्जा की बात कही थी।

टीडीपी ने कहा कि दूसरे राज्यों की तुलना में आंध्र प्रदेश के साथ भेदभाव किया गया। टीडीपी सांसद ने कहा कि हम हाथ जोड़कर मांग करते हैं कि आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिया जाए। उन्होंने पीएम मोदी पर हमला करते हुए कहा कि चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने कहा था कि न खाऊंगा न खाने दूंगा, पर उन्होंने भ्रष्टाचारियों को बचाया। टीडीपी सांसद ने आंध्र प्रदेश के पिछड़ेपन के आंकड़े गिनाए और कहा कि बुंदेलखंड से भी ज्यादा भेदभाव हुआ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here