उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती नजरबंद, श्रीनगर जिले में धारा 144 लागू।

श्रीनगर जिले में धारा 144 भी लगा दी गई है और स्कूल, कॉलेजों को बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं और तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को तुरंत कश्मीर छोड़ने के लिए कहा गया है.

0
256

जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में जारी असमंजस की स्थिति के बीच पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला को नजरबंद (House Arrest) कर दिया गया है. नेशनल कॉन्फ्रेंस (NC) के नेता उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) और PDP प्रमुख महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) के अलावा सज्जाद लोन को भी नजरबंद (House Arrest) किया गया है.

इसके अलावा श्रीनगर जिले में धारा 144 भी लगा दी गई है और स्कूल, कॉलेजों को बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं. बता दें कि यह कदम ऐसे समय में आया है जब राज्य में सुरक्षाबलों की भारी तैनाती की जा रही है और तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को तुरंत कश्मीर छोड़ने के लिए कहा गया है.

इन खबरों के बीच पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने Tweet कर बताया, ‘मुझे लगता है कि आज आधी रात से मुझे नजरबंद किया गया है और मुख्‍यधारा के अन्‍य नेताओं के लिए भी ये प्रक्रिया शुरू हो गई है.’

उधर PDP नेता महबूबा मुफ्ती ने भी Tweet कर कहा, ‘कैसी विडंबना है कि हमारे जैसे चुने हुए प्रतिनिधि जो शांति के लिए लड़े थे, घर में नजरबंद हैं. दुनिया देख रही है कि जम्‍मू-कश्‍मीर में लोगों और उनकी आवाज को दबाया जा रहा है. वह कश्मीर जिसने एक धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक भारत को चुना था, अकल्पनीय उत्पीड़न का सामना कर रहा है. जागो भारत जागो.’

इससे पहले एक और Tweet में महबूबा मुफ्ती ने कहा, ‘ऐसे मुश्किल समय में मैं लोगों को आश्‍वस्‍त करना चाहूंगी कि जो भी हो, हम साथ हैं और इससे लड़ेंगे.’

कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) के समर्थन में आए और कहा कि आप अकेले नहीं हैं. कांग्रेस नेता शशि थरूर ने उमर अब्‍दुल्ला के Tweet को Retweet करते हुए लिखा, ‘आप अकेले नहीं हैं उमर अब्‍दुल्‍ला. हर लोकतांत्रिक भारतीय कश्‍मीर के मुख्‍यधारा के नेताओं के साथ खड़ा है क्‍योंकि आप उसका सामना करेंगे जो भी देश के लिए सरकार के मन में है. संसद का सत्र अब भी चल रहा है और हमारी आवाज भी शांत नहीं होगी.

इससे पहले BJP को छोड़कर बाकी सियासी पार्टियों के बीच सर्वदलीय बैठक हुई. सुरक्षा कारणों के चलते होटल में बैठक की इजाज़त नहीं दी गई थी. इसके बाद नेशनल कॉन्फ़्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) के घर सर्वदलीय बैठक हुई थी.

फारूक अब्दुल्ला के घर सर्वदलीय बैठक

बैठक में पीडीपी अध्यक्ष और पूर्व सीएम महबूबा मुफ़्ती, पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर, पीपुल्स मूवमेंट के नेता शाह फैसल और सज्जाद लोन भी शामिल हुए थे. सर्वदलीय बैठक के बाद फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि पहचान, स्वायत्तता और जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को लेकर सभी पार्टियां एक साथ हैं. उन्होंने लोगों से अमन की अपील भी की.

नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने बैठक में स्वीकार किए गए प्रस्ताव के हवाले से कहा था कि पार्टियों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राजनीतिक दलों के नेताओं से मिलने के लिए प्रतिनिधिमंडल भेजने तथा संविधान के अनुच्छेद 370 और 35-ए को रद्द करने की किसी कोशिश के परिणामों से उन्हें अवगत कराने का फैसला किया है. बैठक में यह भी कहा गया कि 35 ए और 370 से छेड़छाड़ को किसी भी हाल में मंजूर नहीं किया जाएगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here