मुंबई ‘रेल रोको आंदोलन’: 4 घंटे बाद सेंट्रल लाइन खुली, दो लाख लोग नहीं जा सके ऑफिस

0
476

रेलवे में स्थायी नौकरी की मांग को लेकर माटुंगा और दादर के बीच ट्रेनी अप्रैंटिंस छात्रों ने ट्रैक पर जाम लगा दिया था. छात्रों के हंगामे के कारण यात्रियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था.

प्रदर्शनकारियों की मांग थी कि 20 फीसदी कोटा को हटा दिया जाए और स्थायी नौकरी दे दी जाए. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि वह पिछले 4 साल से शांतिपूर्ण ढंग से अपनी मांग को उठा रहे हैं, लेकिन सरकार की ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया है. उधर, सेंट्रल रेलवे ने बयान जारी कर कहा है कि रेलवे अप्रैंटिशिप में ट्रेनिंग का प्रावधान है और नौकरी देने की कोई व्यवस्था नहीं है.

इस मामले पर सियासत भी शुरू हो गई है. महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के संदीप देशपांडे ने आजतक से कहा था कि जब तक रेल मंत्री पीयूष गोयल लिखित में आश्वासन नहीं देते हैं, तब तक वहां से कोई नहीं हटेगा. इस प्रदर्शन के कारण मुंबई के मशहूर डब्बावालों के काम पर भी असर पड़ा है. डब्बावाले कुर्ला इलाके से ही लोकल ट्रेन के जरिए अपनी सर्विस को आगे बढ़ाते हैं.

 विश्वस्त सूत्रों के हवाले से खबर है कि रेलवे के विजिलेंस विभाग को पहले से इस आंदोलन की जानकारी थी. छात्रों के आंदोलन को लेकर रेलवे प्रशासन को आगाह करने की बात भी सामने आ रही है. माटुंगा के एक ट्रैक को खाली कराया जा चुका है जिसपर ट्रेन की आवाजाही शुरू हो चुकी है. रेल रोको आंदोलन के चलते 60 ट्रेन रद्द हो गई जिसकी वजह से करीब दो लाख लोग आज ऑफिस नहीं पहुंच पाए.

प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने सुबह 7 बजे ही ट्रैक को जाम कर दिया था. प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने माटुंगा और छत्रपति शिवाजी टर्मिनिस रेलवे स्टेशन के बीच रेलवे ट्रैक को जाम कर दिया था. लोकल ट्रेन मुंबई की जान है और वहां की जिंदगी की रफ्तार है. लोकल ट्रेन के रुकते ही  लाखों लोग फंस गए.

प्रशासन चक्का जाम से था बेखबर
जानकारी के मुताबिक प्रशासन को चक्का जाम को लेकर बिल्कुल भी अंदेशा नहीं था. सुबह पीक आवर होने की वजह से हजारों यात्री अलग-अलग स्टेशनों पर फंसे हुए हैं. यात्रियों को जब पता चला कि ट्रेन रूट को जाम कर दिया गया है तो यात्री बस और कैब के लिए सड़कों की तरफ भागे, जिसकी वजह से रोड ट्रैफिक का हाल बहुत बुरा हो गया है. सड़कों पर वाहन रेंगती नजर आ रही है.

सेंट्रल लाइन से रोजाना 40 लाख यात्री सफर करते हैं
पुलिस-प्रशासन को छात्रों के गुस्से के अंदेशा बिल्कुल भी नहीं था, जिसकी वजह से उन्हें समझ में नहीं आ रहा है कि आखिरकार छात्रों से किस तरह बात की जाए. पुलिस के मुताबिक करीब 1000 छात्र एकजुट होकर रेल ट्रैफिक को जाम कर दिया है. मुंबई लोकल की सेंट्रल लाइन की सेवा पूरी तरह से ठप हो गई है. सेंट्रल लाइन से रोजाना करीब 40 लाख लोग यात्रा करते हैं.

मुंबई लोकल ट्रेन जाम की प्रमुख बातें:

  • परीक्षा में पास होने के बावजूद इन छात्रों को नौकरी नहीं मिल रही है. परीक्षा पास करने के बाद इन परीक्षार्थियों की ट्रेनिंग भी पूरी हो चुकी है. सुबह 7 बजे से ही छात्र ट्रैक जाम कर दिए हैं.
  • मुंबई-सेंट्रल से खपोली के बीच 140 किलीमीटर की रेल लाइन ठप. सेंट्रल लाइन की कम से कम 30 लोकल ट्रेन रद्द.
  • अभी कुर्ला से कल्याण के बीच लोकल ट्रेन चल रही है.
  • मुंबई लोकल की चारों लाइनें अभी ठप हो गई है.
  • मुंबई सेंट्रल स्टेशन हेल्पलाइन- 23061763, 23073535.
  • मुंबई लोकल रेलवे हेल्पलाइन इमरजेंसी- 2300400
  • मुंबई-कुर्ला से दादर तक कोई ट्रेन नहीं चल रही है.
  • 4 सालों ने 10 छात्रों ने की खुदकुशी.
  • 4 साल बाद भी रेलवे ने नियुक्ति पत्र नहीं दिया.
  • छात्रों का आरोप, पुलिस ने हम पर लाठीचार्ज किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here