बुराड़ी कांड में नया खुलासा घर से मिले 20 रजिस्टर, 2007 से लिखी जा रही थी ‘मोक्ष’ की कहानी

0
345

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा को भाटिया परिवार के घर से मंगलवार को कई और रजिस्टर मिले हैं। सभी रजिस्टर में धार्मिक बातें लिखी हुई हैं। कुछ जगह पर ललित परिवार के सदस्यों को आदेश भी देता है। इन रजिस्टर में लिखी बातें से और चौंकाने वाले खुलासे सामने आए हैं। भाटिया परिवार किसी बाबा व विचारधारा (पंथ) को नहीं मानता था।

पुलिस की जांच से मंगलवार को ये स्पष्ट हो गया है कि ललित व उसकी पत्नी ने ही सभी को फांसी के फंदे पर लटकाया। दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को घटनास्थल पर तीन बार जाकर छानबीन की। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने बताया कि अभी तक जांच में ये स्पष्ट हो गया है कि पीड़ित परिवार किसी धर्म या बाबा को नहीं मानता था।

अपराध शाखा के अधिकारियों के अनुसार रजिस्टर में जिस तरह की बातें लिखी हुई है उससे लग रहा है कि ललित व उसकी पत्नी टीना ने ही सभी लोगों की जान ली है। बड़ पूजा केबहाने जान ले ली। पुलिस को मिले तीसरे रजिस्टर में ललित ने लिखा हुआ है कि उसकेमन में धारणा आती थी कि घर केकाम क्यों नहीं हो रहे हैं। काम में रूकावट आ रही हैं।

परिवार के सदस्यों को कहता था कि घर में ईश्वरी सहायता आ रही है। मन में झांक कर देखों। में बाधित हूं कि कामों में बाधा क्यों आ रही है। ईश्वरी शक्ति घर में है मगर परिवार के लोग बाहर जाते हैं। ज्ञान ही ईश्वरी सहायता मिलेगी। घर के लोग प्रायश्यित नहीं करते। घर में इतनी ईश्वरी शक्ति है कि पुरानी दुकान नहीं हो जाएगी।

परिवार के लोग लापरवाही करते हैं। इस कारण बड़ पूजा करनी पड़ेगी। बड़ पूजा की जानकारी ललित व टीना को थी। रजिस्टर में साफ लिखा हुआ है कि पीड़ित परिवार दूसरे धर्म व विचारधार से सख्त नफरत करते थे। पूरा परिवार हनुमान को बहुत मानता था। पूरा परिवार दिन में तीन बार सुबह आठ बजे, दोपहर 12 बजे और 10 बजे हनुमान चालीसा पढ़ता था।

घर में शिव व दुर्गा की मूर्ति भी मिली हैं। पीड़ित परिवार का घर एक आम हिंदू परिवार की तरह है। अपराध शाखा अधिकारियों के अनुसार पीड़ित परिवार केबारे में व खुदकुशी करने का राज रजिस्टर से ही खुल रहा हैऔर रजिस्टर ही एक जरिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here