पाकिस्तान की इमरान सरकार का झूठ, पीएम मोदी के खत को बताया वार्ता का प्रस्ताव

0
276

इमरान खान के पाकिस्तान का प्रधानमंत्री बनने के बाद नई सरकार का भारत को लेकर बोला गया एक झूठ बेनकाब हो गया है। दरअसल, पाकिस्तान के नवनियुक्त विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सोमवार को यह दावा किया कि भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाक पीएम को पत्र लिखकर बधाई दी और बातचीत का प्रस्ताव रखा। हालांकि नई दिल्ली में सरकारी सूत्रों ने साफ कहा कि पीएम मोदी ने इमरान खान को बधाई पत्र जरूर भेजा है लेकिन इसमें बातचीत का कोई प्रस्ताव शामिल नहीं है।

इससे पहले पाक के विदेश मंत्री ने कहा था कि भारत के साथ लगातार और बिना रुके वार्ता की जरूरत है। उन्होंने कहा, ‘हम पड़ोसी हैं। हमारे बीच लंबे समय से मुद्दे अनसुलझे हैं, दोनों देश इन समस्याओं को जानते हैं। हमारे पास बातचीत करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। हम अडवेंचरिज्म को बर्दाश्त नहीं कर सकते हैं।’
जबकि जियो न्यूज के मुताबिक उन्होंने आगे कहा कि भारत और पाकिस्तान को वास्तविकता को सामने रखते हुए आगे बढ़ना चाहिए। इसी दौरान उन्होंने दावा किया कि पीएम मोदी ने इमरान खान को पत्र लिखकर संकेत दिया है कि वह दोनों देशों के बीच बातचीत को फिर से शुरू करना चाहते हैं।

पाक विदेश मंत्री ने कहा कि हमारे बीच मसले काफी जटिल हैं और इनका समाधान करने में हमें मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है लेकिन हमें संवाद करना चाहिए। हमें यह स्वीकार करना होगा कि हम समस्याओं से जूझ रहे हैं। उन्होंने पाकिस्तान के दूसरे नेताओं की तरह कश्मीर राग भी अलापा। कुरैशी ने कहा कि इस्लामाबाद घोषणा हमारे इतिहास का हिस्सा है।

आपको बता दें कि पाकिस्तान के नवनिर्वाचित प्रधानमंत्री इमरान खान ने राष्ट्र के नाम अपने पहले संबोधन में पड़ोसी देशों से रिश्ते सुधारने की बात कही है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को अपने सभी पड़ोसियों के साथ ‘बेहतरीन संबंध’ रखने की दिशा में काम करना होगा क्योंकि इसके बिना देश में शांति लाना संभव नहीं होगा। देश के 22वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ लेने के बाद राष्ट्र के नाम करीब एक घंटे लंबे भाषण में खान ने आर्थिक मोर्चे पर पाकिस्तान की चुनौतियों को सामने रखा था।

निरंजन कुमार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here