पटना घूमने आये सरकारी स्कूल के बच्चों को फुटपाथ पर रात बितानी पड़ी

0
451

बिहार (Bihar) में स्कूली बच्चों के साथ एक बार फिर लापरवाही और बदइंतजामी का मामला समाने आया है। राजधानी पटना (Patna) घूमने आये चंपारण (Champaran) के बच्चों को रात पर फुटपाथ पर सोना पड़ा, इसकी जानकारी मिलते ही पटना जिला शिक्षा पदाधिकारी ने संज्ञान लिया और एक आदेश जारी किया । जिला शिक्षा पदाधिकारी के आदेश के मुताबिक पटना घूमने आने वाले सरकारी स्कूल के बच्चों के रात में ठहरने की व्यवस्था की जायेगी और इसके लिए नजदीकी स्कलों का इस्तेमाल किया जाएगा।

दरअसल चंपारण जिला के सरकारी स्कूल के बच्चे चिड़ियागर (Zoo) घूमने आये थे और रात को लौटते वक्त बस खराब हो गई । इस वजह से इन बच्चों को बस स्टैंड पर ही फुटपाथ पर सोने को कहा गया। बिहार दर्शन योजना के तहत यूएमएस, मच्छरगवा और बनकटवा के स्कूली बच्चे राजधानी दर्शन के बाद थक के चूर हो चुके थे लेकिन इन मासूमों को सड़क पर ही सोना पड़ा वो भी बरसात की ठंडी रात में।

चंपारण के बच्चे पटना के चिड़ियाघर घुमने के बाद जब घर जाने के लिए बस के पास आएं तो गेट नं1 के पास खड़ी बस खराब थी। इसके बाद जब देर हो गई तो बच्चों को चिड़ियाघर के बाहर ही रात भर सड़क के किनारे फुटपाथ पर ही सुला दिया गया। रात भर ये बच्चे ठंड से ठिठुरते रहे और मच्छर, किड़े-मकौड़ों से हलकान होते रहे लेकिन इन पर न तो किसी प्रशासनिक अधिकारी की और न ही पुलिस पेट्रोलिंग टीम की ही नजर पड़ी।

इन बच्चों के साथ टूर पर इनकी कई शिक्षिकाएं भी आईं थीं जो बच्चों के साथ ही फुटपाथ (Footpath) पर दुबकी रहीं। बच्चों और महिलाओं की सुरक्षा रात भर भगवान भरोसे थी लेकिन पूरा पटना प्रशासन इस बात से बेसुध था। जिस जगह पर बच्चे और शिक्षक सड़क पर डेरा डाले हुए थे वो पटना का सबसे व्यस्त मार्ग है। यही नहीं इस मार्ग पर लगातार तेज रफ्तार की गाड़ियां आती-जाती हैं। ऐसी जगह पर बच्चों का ठहरना जानलेवा हो सकता था क्योंकि इस मार्ग पर कई बड़ी दुर्घटनायें हो चुकी हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here