महाराष्ट्र में कांग्रेस और NCP का गठबंधन, कुंभकरण की तरह – PM Modi

महाराष्ट्र में कांग्रेस और NCP का गठबंधन, कुंभकरण की तरह है. जब वो सत्ता में होते हैं तो 6-6 महीने के लिए सोते हैं.

0
639

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की जीत सुनिश्चित करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने महाराष्ट्र के वर्धा में एक चुनावी रैली को संबोधित किया. वर्धा में रैली को संबोधित करते वक्त पीएम मोदी ने कांग्रेस (Congress) के साथ-साथ शरद पवार (Sharad Pawar) की पार्टी एनसीपी (NCP) पर भी हमला बोला और इन दोनों पार्टियों को कुंभकर्ण (कुंभकरण) के जैसा बताया. पीएम मोदी ने कहा कि ये दोनों पार्टियां जब सत्ता में होती हैं तो सिर्फ घोटाले करती हैं. ये दोनों पार्टियों सत्ता में 6-6 महीने तक सोती रहती हैं. पीएम मोदी ने इस दौरान एक बार फिर से पाकिस्तान का जिक्र किया और रैली में मौजूद लोगों से पूछा कि आपको पाकिस्तान में बनने वाला हीरो चाहिए या हिंदुस्तान वाला. पीएम मोदी ने आगे कहा कि आपको सबूत चाहिए या फिर सपूतों पर गर्व चाहिए.

पीए मोदी ने वर्धा में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा कि 2 दिन पहले कांग्रेस के एक बढ़े नेता ने कहा कि मोदी ने केवल शौचालय की चौकीदारी की है. अब आप बताइये बरसों से जो साफ़ सफाई के काम में जुटे हैं, जो स्वच्छता के चौकीदार हैं, ये भाषा उनका अपमान है या नहीं. पीएम मोदी ने कहा कि मुझे शौचालय का चौकीदार कहा गया. तो मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि हां मैं शौचालय का चौकीदार हूं और शौचालय का चौकीदार होना गर्व की बात है.

एक समय था जब शरद पवार जी सोचते थे कि वो भी प्रधानमंत्री बन सकते हैं. उन्होंने ऐलान भी किया था कि वो ये चुनाव लड़ेंगे. लेकिन अचानक एक दिन बोले कि मैं तो यहां राज्यसभा में ही खुश हूं, मैं चुनाव नहीं लड़ूंगा. वे भी जानते हैं कि हवा का रुख किस तरफ है. एनसीपी में इस समय पारिवारिक युद्ध चल रहा है. पार्टी शरद पवार के हाथों से निकलती जा रही है और स्थिति ये है कि उनके भतीजे धीरे-धीरे पार्टी पर कब्जा करते जा रहे हैं. इसी वजह से एनसीपी को टिकट बंटवारे में भी दिक्कत आ रही है.

महाराष्ट्र में कांग्रेस और NCP का गठबंधन, कुंभकरण की तरह है. जब वो सत्ता में होते हैं तो 6-6 महीने के लिए सोते हैं. 6 महीने में कोई एक उठता है और जनता का पैसा खाकर फिर सोने चला जाता है. मत भूलिए, जब महाराष्ट्र का किसान अजित पवार से बांधों में पानी के बारे में सवाल करने गया था, तो उन्हें क्या जवाब मिला था. शरद पवार खुद एक किसान होने के बावजूद किसानों को भूल गए, उनकी चिंताओं को भूल गए हैं. उनके कार्यकाल में कितने ही किसानों को खुदकुशी के लिए मजबूर होना पड़ा, लेकिन पवार साहब ने कोई परवाह नहीं की.

पीएम मोदी ने एक बार फिर से कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि जिन्होंने 70 साल तक गरीब को गरीब बनाए रखा वो कभी गरीब का भला नहीं कर सकते हैं. ये वो लोग हैं जो गरीब के नाम पर पैसा लाकर, उस पैसे से अपनी तिजोरी भरते हैं. आगे उन्होंने कहा कि आपका ये चौकीदार पूरी ईमानदारी से दिन-रात आपकी मुश्किलों को कम करने में जुटा है. कपास, सोयाबीन, तूर सहित अनेक फसलों का समर्थन मूल्य लागत का डेढ़ गुना करने का काम भी हमने किया है. इतना ही नहीं वन उपज के MSP में काफी बढ़ोतरी की है.

कांग्रेस और एनसीपी ने सिंचाई परियोजनाओं के नाम पर यहां के किसानों को लूटा है. दर्जनों सिंचाई परियोजनाएं दशकों तक लटकी रहीं. इन योजनाओं को पूरा करने का बीड़ा आपके इस प्रधानसेवक ने उठाया. लोअर वर्धा सिंचाई परियोजना पर तेज़ी से काम चल रहा है. इसी तरह वर्धा में जलयुक्त शिवार अभियान से सैकड़ों गांवों को लाभ होगा. हम बहुत ईमानदारी से इस क्षेत्र में पानी की दिक्कत को कम करने की कोशिश कर रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि विदर्भ का सूखा, मौसम के साथ ही कांग्रेस के 70 साल के भ्रष्टाचार की भी देन है. आपका ये चौकादार इसको हराने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है.

साथियों आप ये भी मत भूलिए कि ये वही कांग्रेस और एनसीपी का गठबंधन है जिसने आजाद मैदान में उन्मादी भीड़ को शहीदों के स्मारक को जूते से रौंदने की खुली छूट दी थी. वोट-बैंक की राजनीति के लिए एनसीपी और कांग्रेस किसी भी हद तक जा सकती हैं. इस देश के करोड़ों लोगों पर हिंदू आंतकवाद का दाग लगाने का प्रयास कांग्रेस ने ही किया है. सुशील कुमार शिंदे जब भारत सरकार में मंत्री थे, तो उन्होंने इसी महाराष्ट्र की धरती से हिंदू आतंकवाद की चर्चा की थी.

कुछ दिन पहले कोर्ट का फैसला आया है और इस फैसले से कांग्रेस की साजिश की सच्चाई देश के सामने आई है. कांग्रेस ने हिन्दुओं का जो अपमान किया है, कोटि कोटि जनता को दुनिया के सामने नीचा दिखाने का जो पाप किया है, ऐसी कांग्रेस को माफ किया जा सकता है. आप मुझे बताइये जब आपने हिन्दू आतंकवाद शब्द सुना तो आपको गहरी चोट पहुंची थी की नहीं. हजारों साल के इतिहास में हिन्दू कभी आतंकवाद करे ऐसी एक भी घटना नहीं है. अंग्रेजी इतिहासकारों ने भी कभी हिन्दू हिंसक हो सकता है इस बात का जिक्र तक नहीं किया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here