पीएम मोदी ने बढ़ती बेरोजगारी से निपटने के लिए किया दो नई कैबिनेट समितियों का गठन।

भारतीय अर्थव्यवस्था पर छा रही सुस्ती और देश में बेरोजगारी के बढ़ते स्तर से चिंतित पीएम नरेंद्र मोदी ने बुधवार को दो नई कैबिनेट समिति का गठन किया।

0
1518

मोदी सरकार (Modi Government) के शपथ ग्रहण लेने के तुरंत बाद देश में बेरोजगारी (Unemployment) को लेकर जो आंकड़े सामने आए हैं, उससे सरकार की चिंता बढ़ गई है। भारतीय अर्थव्यवस्था (Slow Indian Economy) पर छा रही सुस्ती और देश में बेरोजगारी (Unemployment) के बढ़ते स्तर से चिंतित पीएम नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने बुधवार को दो नई कैबिनेट समिति (Cabinet Committee) का गठन किया। ये दोनों मंत्रीमंडलीय समितियां प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में आर्थिक विकास को गति देने, निवेश का माहौल बेहतर करने के साथ-साथ रोजगार के अवसर बढ़ाने के तरीके सुझाएंगी।

निवेश और विकास पर आधारित कैबिनेट की पहली समिति में गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, सड़क परिवहन और राजमार्ग और एमएसएमई मंत्री नितिन गडकरी और रेल मंत्री पीयूष गोयल शामिल हैं।

वहीं रोजगार और कौशल विकास पर आधारित एक और 10 सदस्यीय कैबिनेट समिति का गठन किया गया है, जिसमें गृहमंत्री अमित शाह, वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण, पीयूष गोयल, कृषि और किसान कल्याण मंत्री, ग्रामीण विकास और पंचायत राज मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कौशल और उद्यमिता विकास मंत्री महेंद्र नाथ पांडे , राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) संतोष कुमार गंगवार और हरदीप सिंह पुरी को शामिल किया गया है।

एनएसएसओ (NSSO) के आंकड़ों के मुताबिक 2018-19 की आखिरी तिमाही में जीडीपी (GDP) घटने के साथ ही नई सरकार के लिए इकोनॉमी एक बड़ी वजह बन गई है। पिछले वित्तीय वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद का अनुमान 7.2 प्रतिशत के लक्ष्य के मुकाबले 6.8 प्रतिशत आंका गया है।

मोदी सरकार के शपथ ग्रहण लेने के तुरंत बाद देश में बेरोजगारी को लेकर जो आंकड़े सामने आए हैं, उससे सरकार की चिंता बढ़ गई है। आधिकारिक आंकड़ों में ये बात सामने आई है कि भारत में बेरोजगारी की दर 2017-18 में 45 साल के उच्च स्तर 6.10 प्रतिशत पर पहुंच गई।

श्रम मंत्रालय ने यह आंकड़ा ऐसे समय जारी किया है जब नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की शुरुआत करते हुये मंत्रियों ने पदभार संभाला। मंत्रालय द्वारा जारी इन आंकड़ों के अनुसार शहरी क्षेत्र में रोजगार योग्य युवाओं में 7.8 प्रतिशत बेरोजगार रहे जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में यह अनुपात 5.3 प्रतिशत रहा। अखिल भारतीय स्तर पर पर पुरूषों की बेरोजगारी दर 6.2 प्रतिशत जबकि महिलाओं के मामले में 5.7 प्रतिशत रही।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here