करतापुर कॉरिडोर का आज पीएम मोदी करेंगे उद्घाटन

प्रधानमंत्री मोदी करतारपुर कॉरिडोर का उद्धघाटन करेंगे और 500 से अधिक भारतीय तीर्थयात्रियों के पहले जत्थे को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे.

0
256

Kartarpur Corridor Inauguration – सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव (Guru Nanak Dev) की 550वीं जयंती के अवसर पर शनिवार से करतारपुर कॉरिडोर श्रद्धालुओं के लिए खोला जा रहा है. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) इसका उद्धघाटन (Kartarpur Corridor inauguration) करेंगे और 500 से अधिक भारतीय तीर्थयात्रियों के पहले जत्थे को को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे.

प्रधानमंत्री कार्यालय ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि उद्घाटन समारोह से पहले मोदी सुल्तानपुर लोधी में बेर साहिब गुरुद्वारे में मत्था टेकेंगे. बाद में वह डेरा बाबा नानक में एक सार्वजनिक समारोह में हिस्सा लेंगे.

करतारपुर कॉरिडोर (Kartarpur Corridor) भारत के पंजाब में डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे को करतारपुर स्थित दरबार साहिब से जोड़ेगा. प्रधानमंत्री मोदी (PM Modi) इस अवसर पर यात्री टर्मिनल भवन का भी उद्घाटन करेंगे जिसे एकीकृत जांच चौकी (ICP) भी कहा जाएगा. तीर्थयात्री 4.5 किलोमीटर लंबे नवनिर्मित कॉरिडोर से जाने के लिए यहीं से मंजूरी प्राप्त करेंगे. आईसीपी की जांच चौकी के उद्घाटन से भारतीय तीर्थयात्रियों को करतारपुर साहिब जाने में सुविधा होगी.

बयान के अनुसार भारत ने 24 अक्टूबर को डेरा बाबा नानक में अंतरराष्ट्रीय सीमा के ‘जीरो प्वाइंट’ पर कॉरिडोर के परिचालन के तौर-तरीकों पर 24 अक्टूबर को पड़ोसी देश के साथ करार किया था.

करतारपुर जाने वाले पहले जत्थे में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह (Dr Manmohan Singh), अकाल तख्त के जत्थेदार हरप्रीत सिंह (Jathedar Harpreet Singh), पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Amarinder Singh), पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल (Prakash Singh Badal), सुखबीर सिंह बादल (Sukhbir Singh Badal), केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल (Harsimrat Kaur Badal) तथा नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) शामिल हैं. शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंध कमेटी (SGPC) के सदस्य और पंजाब के सभी 117 विधायक और सांसद भी इस जत्थे में शामिल होंगे.

अत्याधुनिक यात्री टर्मिनल भवन का निर्माण 18 एकड़ भूमि पर किया गया है. इसकी डिजाइन सिख धर्म के प्रतीक माने जाने वाले ‘खंडा’ से प्रेरित है. पूरी तरह वातानुकूलित इमारत हवाई अड्डे की तरह दिखती है जिसमें एक दिन में करीब 5000 तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए 50 से अधिक आव्रजन काउंटर होंगे. यहां वाशरूम, बच्चों की देखभाल के लिए स्थान, प्राथमिक चिकित्सा सुविधा, प्रार्थना कक्ष समेत अनेक सुविधाएं होंगी. इस जगह 300 फुट ऊंचाई पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया है.

इस बीच शुक्रवार को डेरा बाबा नानक तथा सुल्तानपुर लोधी में गुरू नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के पांच दिवसीय समारोह शुरू हो गये जो 12 नवंबर तक चलेंगे. एसजीपीसी की पूर्व प्रमुख और समारोहों की प्रभारी जागीर कौर ने बताया कि मोदी गुरुद्वारा बेर साहिब में मत्था टेकेंगे. इस मौके पर एसजीपीसी उन्हें सिरोपा प्रदान करेगी. कौर ने बताया कि लुधियाना की एक साइकल कंपनी शहर में घूमने के लिए श्रद्धालुओं को नि:शुल्क साईकिल भी उपलब्ध करा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here