Coronavirus- तबलीगी जमात वालों के टेस्ट करने में आनाकानी के बाद पुलिस तैनात

डॉ. किशोर सिंह ने बताया कि अस्पताल में लाए गए तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) के कई सदस्य उनके टेस्ट और अस्पताल में भर्ती किए जाने का विरोध कर रहे हैं।

0
1067

कोरोना वायरस (Coronavirus) से निपटना सरकार और डॉक्टरों के लिए सबसे बड़ी चुनाैती बनी हुई है। इसमें जनता और मरीजों को सहयोग न मिलने से समस्या और बढ़ती जा रही है। ऐसा ही मामला इन दिनों दिल्ली के एक अस्पताल में देखा गया, जहां तबलीगी जमात वाले कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीज टेस्ट से बचने के लिए डॉक्टरों से ही झगड़ने लगे।

दिल्ली स्थित लोक नायक जय प्रकाश (LNJP) अस्पताल के डायरेक्टर डॉ. किशोर सिंह ने गुरुवार को बताया कि अभी हमारे पास 216 मरीज हैं, इनमें से 188 मरीज तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) से जुड़े हैं। उनमें से हमें अब तक 24 मरीजों की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट मिली है, जिनमें से 23 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं, जो काफी चिंताजनक है।

डॉ. किशोर सिंह ने बताया कि अस्पताल में लाए गए तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) के कई सदस्य उनके टेस्ट और अस्पताल में भर्ती किए जाने का विरोध कर रहे हैं। उन्हें ऐसा लग रहा है कि उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की कोई आवश्यकता नहीं है। ऐसा करके उन्होंने अस्पताल कर्मियों की सुरक्षा को भी खतरे में डाल दिया है। इसे देखते हुए अब उन तीन ब्लॉकों के आसपास पुलिस को तैनात किया गया है, जहां तबलीगी जमात के इन लोगों को रखा गया है।

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने गुरुवार को बताया कि राजधानी में COVID-19 वायरस से संक्रमित और संदिग्ध मरीज मिलाकर कुल 700 लोग दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती हैं। सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में बुधवार शाम तक कोरोना वायरस (Coronavirus) के 152 पॉजिटिव केस हैं। इसमें से 53 केस मरकज के हैं। दिल्ली में कल 32 लोगों का आंकड़ा बढ़ा है, जिसमें 29 लोग निजामुद्दीन में तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) कार्यक्रम में शामिल हुए थे। दिल्ली में अभी 700 के करीब कोरोना पॉजिटिव और संदिग्ध मामले हैं। आज भी काफी लोगों की रिपोर्ट आएगी, जिसके बाद मामले और बढ़ने की आशंका है। इनमें मरकज के लोग ही ज्यादा हैं।

ज्ञात हो कि दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज को बुधवार को खाली कराकर यहां से कुल 2361 लोगों को निकाला गया था। इसके बाद दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया (Manish Sisodia) ने बुधवार को बताया था कि निजामुद्दीन के आलमी मरकज में 36 घंटे का सघन अभियान चलाकर सुबह चार बजे पूरी बिल्डिंग को खाली करा लिया गया। इस इमारत में कुल 2361 लोग बाहर निकाले गए जिनमें से 617 को अस्पतालों में और बाकी को अलग-अलग क्वारंटीन में भर्ती कराया गया है। सिसोदिया ने Lockdown में सभी से सहयोग की अपील करते हुए कहा कि करीब 36 घंटे के इस अभियान में मेडिकल स्टाफ, प्रशासन, पुलिस और डीटीसी स्टाफ सबने मिलकर तथा अपनी जान जोखिम में डालकर काम किया। इन सबको दिल से सलाम। गौरतलब है कि निजामुद्दीन की तबलीगी मरकज में तबलीगी समाज (Tablighi Jamaat) का कार्यक्रम था जिसमें बड़ी संख्या में लोग जमा हुए थे। बाद में यहां से लोग देश के विभिन्न राज्यों में गए जिससे कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण बड़े पैमाने पर फैलने का खतरा उत्पन्न हो गया है। ​​​​​​

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here