मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह – ‘सिद्धू से मुझे कोई दिक्कत नहीं, मंत्रिमंडल छोड़ना उनका निर्णय था।

मंत्रिमंडल छोड़ना उनका निर्णय था। मुझे बताया गया है कि उन्होंने पत्र भेजा है। पहले पढ़ूंगा और फिर देखूंगा कि क्या करना है।

0
300

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) ने नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर कहा कि मुझे उनसे कोई दिक्कत नहीं है। यहां तक कि मैंने कैबिनेट फेरबदल के बाद उन्हें एक महत्वपूर्ण पोर्टफोलियो दिया था। मंत्रिमंडल छोड़ना उनका निर्णय था। मुझे बताया गया है कि उन्होंने पत्र भेजा है। पहले पढ़ूंगा और फिर देखूंगा कि क्या करना है। नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने सोमवार सुबह मंत्रिपद से अपना इस्तीफा मुख्यमंत्री को भेज दिया था।

पंजाब के मुख्यमंत्री (Captain Amrinder Singh) ने आगे कहा कि मैंने कभी भी सिद्धू की पत्नी का विरोध नहीं किया। मैं ही था, जिसने राहुलजी से उन्हें बठिंडा से चुनाव लड़ाने को कहा था। लेकिन सिद्धू ने कहा कि वह बठिंडा से नहीं, बल्कि चंडीगढ़ से चुनाव लड़ेंगी।

बता दें कि नवजोत सिंह सिद्धू ने सोमवार सुबह बताया था कि उन्होंने आज पंजाब के मुख्यमंत्री को इस्तीफा भेज दिया। यह इस्तीफा उनके आधिकारिक आवास पर भेजा गया है। वहीं, इससे पहले पंजाब के मंत्रिमंडल में फेरबदल के बाद अहम मंत्रालय छीने जाने के बाद से खफा कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को संबोधित अपने इस्तीफे को रविवार को ट्विटर पर सार्वजनिक किया था। इस इस्तीफे पर 10 जून की तारीख लिखी था। यह इस्तीफा उन्होंने उनके मंत्रालय में बदलाव किए जाने के मात्र चार दिन बाद भेजा था।

सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने ट्विटर पर पोस्ट किए गए अपने पत्र में लिखा था कि मैं पंजाब कैबिनेट से मंत्री के तौर पर इस्तीफा देता हूं। मंत्रालय में बदलाव के बाद सिद्धू ने नयी दिल्ली में राहुल गांधी से मुलाकात की थी। इस्तीफे पर इसके एक दिन बाद की तिथि लिखी है।

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Captain Amrinder Singh) ने छह जून को सिद्धू से स्थानीय निकाय और पर्यटन एवं सांस्कृतिक मामलों के विभाग वापस ले लिए थे और उन्हें ऊर्जा एवं नवीकरणीय ऊर्जा विभाग का प्रभार सौंपा था। कैबिनेट में फेरबदल के दो दिन बाद आठ जून को सरकार के महत्वाकांक्षी कार्यक्रमों के क्रियान्वयन में तेजी लाने के लिए मुख्यमंत्री द्वारा गठित मंत्रणा समूहों से भी सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) को बाहर रखा गया था।

पंजाब के कुछ मंत्रियों ने नवजोत सिंह सिद्धू के मंत्रीपद से इस्तीफा देने पर निशाना साधते हुए इसे नाटकबाजी करार दिया है। उन्होंने सिद्धू से अपने कार्यों में अधिक शालीनता दिखाने का आग्रह किया। विपक्षी शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने भी सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) के इस्तीफे को नाटक करार दिया जबकि शिअद की सहयोगी भाजपा ने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंन्दर सिंह से तुरंत सिद्धू को बर्खास्त करने की मांग की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here