Rafale Deal: इस समय देश की सभी संस्‍थाएं बस ये कोशिश कर रही हैं कि चौकीदार को कैसे बचाया जाए। – राहुल गांधी

राहुल गांधी ने कहा, 'इस समय देश की सभी संस्‍थाएं बस ये कोशिश कर रही हैं कि चौकीदार को कैसे बचाया जाए। एक नई लाइन निकली है 'गायब हो गया'

0
372

कांग्रेस और भाजपा राफेल सौदे (Rafale Deal) पर आमने-सामने हैं। बुधवार को मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) को बताया कि रक्षा मंत्रालय से राफेल सौदे से जुड़े कुछ अहम दस्‍तावेज चोरी हो गए थे जो कि अखबार ने अपनी रिपोर्ट में छापे हैं। राफेल लड़ाकू विमान मामले में रिव्यू पिटिशन पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल (KK Venugopal) ने स्‍वीकार किया कि रक्षा मंत्रालय से जुड़े दस्‍तावेज चोरी हो गए हैं। वेणुगोपाल ने कहा कि हिंदू अखबार (The Hindu), याचिकाकर्ता प्रशांत भूषण (Prashant Bhushan) और अन्य लोग चोरी के दस्तावेजों पर भरोसा कर रहे हैं, जिसके लिए उन्हें आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम के तहत अभियोजन का सामना करना पड़ेगा। जो किया गया है, वह अपराध है। हम इसका विरोध कर रहे हैं क्योंकि ये दस्तावेज संलग्न नहीं किए जा सकते। रिव्यू को खारिज किया जाए।

इसके बाद से ही मोदी सरकार इस मुद्दे पर बैकफुट पर नजर आ रही है। ऐसे में कांग्रेस को एक बार फिर मोदी सरकार पर हमला करने का मौका मिल गया है। राहुल गांधी ने सवाल उठाया कि राफेल से जुड़ी फाइलें आखिर कहां गायब हो गई है।

राहुल गांधी ने कहा, ‘इस समय देश की सभी संस्‍थाएं बस ये कोशिश कर रही हैं कि चौकीदार को कैसे बचाया जाए। एक नई लाइन निकली है ‘गायब हो गया’, 2 करोड़ युवाओं को रोजगार गायब हो गया, किसानों को सही दाम, डोकलाम गायब हो गया, जीएसटी से फायदा गायब हो गया, राफेल की फाइलें भी गायब हो गईं।’

राहुल गाँधी ने कहा कि कागज गायब हुए हैं तो इसका मतलब ये है कि कागजों में कोई न कोई सच्चाई तो जरूर है। इनमें साफ लिखा है कि नरेंद्र मोदी इस रक्षा सौदे में समानांतर सौदेबाजी कर रहे थे, अब ये बात हर कोई कह रहा है। राहुल गाँधी ने कहा कि राफेल डील में नरेंद्र मोदी ने बाईपास सर्जरी की है। इस सरकार के राज में रोजगार-किसानों के मुद्दे के साथ राफेल की फाइलें भी गायब है। मोदी सरकार का काम सबकुछ गायब करना है। उन्होंने कहा कि जिनका नाम कागजों में है उनपर कार्रवाई होनी चाहिए।

पीएम मोदी पर हमला करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि आपको जिसपर कार्रवाई करनी है कीजिए, लेकिन प्रधानमंत्री पर भी कार्रवाई होनी चाहिए। प्रधानमंत्री ने ही सीबीआइ के चीफ को आधी रात को पद से हटाया था, जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने भी फटकार लगाई। उन्होंने अनिल अंबानी की जेब में 30 हजार करोड़ रुपये डाल दिए।

हालांकि, राहुल से जब ये सवाल किया गया कि क्‍या उनकी सरकार आने पर वह अनिल अंबानी को इस डील से बाहर कर देंगे? इस पर राहुल गांधी ने कहा कि हम जो भी उचित होगा, वो करेंगे। ये बाद की बात है, अभी मुद्दा ये है कि मामले की जांच होनी चाहिए। हम इस मुद्दे की जेपीसी जांच की मांग कर रहे हैं। अगर कोई घोटाला नहीं हुआ है, तो जांच के लिए तैयार क्‍यों नहीं हो रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here