राहुल गांधी ने Budget के बाद निर्मला सीतारमण पर साधा निशाना, कहा- वित्त मंत्री जी मेरे सवालों से मत डरिए…

राहुल गांधी ने Tweet कर कहा, ‘‘वित्त मंत्री जी, मेरे सवालों से मत डरिए. मैं यह सवाल देश के युवाओं की ओर से पूछ रहा हूं जिनका जवाब देना आपकी जिम्मेदारी है.'

0
346

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने मीडिया में आयी एक खबर का हवाला देते हुए सोमवार को कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) को उनके प्रश्नों से डरना नहीं चाहिए तथा देश के युवाओं की तरफ से पूछे गए सवालों का जवाब देना उनकी जिम्मेदारी है.

राहुल गांधी ने Tweet कर कहा, ‘‘वित्त मंत्री जी, मेरे सवालों से मत डरिए. मैं यह सवाल देश के युवाओं की ओर से पूछ रहा हूं जिनका जवाब देना आपकी जिम्मेदारी है.” उन्होंने दावा किया, ‘‘देश के युवाओं को रोजगार की जरूरत है और आपकी सरकार उन्हें रोजगार देने में बुरी तरह नाकाम साबित हुई है.”

कांग्रेस नेता (Rahul Gandhi) ने एक हिंदी दैनिक में प्रकाशित वित्त मंत्री के साक्षात्कार के उस अंश का हवाला दिया जिसके मुताबिक उन्होंने नौकरियों से जुड़े सवाल पर कहा कि वह कोई आंकड़ा नहीं देना चाहती क्योंकि बाद में ‘राहुल गांधी पूछेंगे कि एक करोड़ नौकरियों का क्या हुआ.’

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को उनका एक पुराना वीडियो Twitter पर पोस्ट कर कहा था कि कृपया ‘अपनी जादुई कसरत कुछ और बार करने की कोशिश करें’, हो सकता है कि इससे अर्थव्यवस्था को रफ्तार मिल जाए. केंद्रीय बजट की आलोचना करने के एक दिन बाद राहुल ने मोदी पर यह प्रहार किया था.

राहुल ने ‘मोदीनॉमिक्स’ हैशटैग के साथ Tweet किया, ‘‘प्रिय प्रधानमंत्री, कृपया अपनी जादुई कसरत दिनचर्या कुछ और बार करने की कोशिश करिए. हो सकता है, यह अर्थव्यवस्था को रफ्तार दे दे.” उन्होंने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए पेश किए गए आम बजट को खोखला करार देते हुए शनिवार को दावा किया कि बजट में रोजगार सृजन और अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के ठोस उपाय नहीं हैं.

राहुल ने संसद परिसर में संवाददाताओं से कहा, ‘‘आज देश के सामने बेरोजगारी और अर्थव्यवस्था की स्थिति प्रमुख मुद्दा हैं. लेकिन मुझे बजट में कोई ठोस विचार नहीं दिखा जिससे कहा जाए कि हमारे नौजवानों को रोजगार मिलेगा.”

उन्होंने दावा किया, ‘‘इसमें सरकार की खूब सराहना की गई. कई बातों को दोहराया गया. इसमें कुछ ठोस नहीं, यह सिर्फ सरकार की सोच है. खूब बातें हो रही हैं, लेकिन किया कुछ नहीं जा रहा. देश मुश्किल का सामना कर रहा है. युवाओं को रोजगार नहीं मिला.” कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया, ‘‘सरकार ने कर व्यवस्था के सरलीकरण की बात कही थी, लेकिन उसे और जटिल बना दिया. बजट में कुछ नहीं. यह खोखला है.”

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने शनिवार को यह दावा किया कि बजट से साबित होता है कि केन्द्र की नरेंद्र मोदी सरकार अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने की उम्मीद छोड़ चुकी है. उन्होंने कहा था कि बजट में ऐसा कुछ नहीं है जिससे किसी को यह यकीन हो कि आर्थिक वृद्धि में 2020-21 में नयी जान आएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here