Rajasthan Crisis: सचिन पायलट की वापसी से कई विधायक नाराज, गहलोत ने कहा- आलाकमान का फैसला सर्वोपरी

राजस्थान के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) की 'वापसी' के बाद गहलोत खेमे के कांग्रेसी विधायकों ने बागियों को लेकर नाराजगी व्यक्त की।

0
1356

Rajasthan: राजस्थान के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) की ‘वापसी’ के बाद गहलोत खेमे के कांग्रेसी विधायकों ने बागियों को लेकर नाराजगी व्यक्त की। हालांकि, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) सहित वरिष्ठ नेताओं ने विधायकों को यह कहकर शांत कराया कि लोकतांत्रिक व्यवस्था को बचाना है।

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि कांग्रेस के विधायकों ने पिछले एक महीने तक जिस तरह भी सबकुछ हुआ, उसके बाद बागियों की वापसी पर अपना विरोध जताया है। उन्होंने कहा, ‘विधायकों का कहना है कि वापसी के बाद भी वे मुख्यमंत्री और सरकार के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं, जोकि स्वीकार्य नहीं है। अगर ऐसा ही चलता रहा तो फिर इसका विरोध दर्ज कराया जाएगा।’

एक विधायक ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि किसी भी बागी विधायक को सरकार या फिर संगठन में कोई पद नहीं दिया जाना चाहिए। यदि तीन सदस्यीय कमेटी उनकी बात सुनती है तो फिर हमारी भी बात उन्हें सुननी चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘इसके बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला (Randeep Surjewala) ने उन्हें बताया कि बागी विधायक बिना किसी शर्त पर वापस आए हैं।’ उन्होंने कहा कि खेल मंत्री अशोक चंदाना का कहना है कि ‘होर्स ट्रेडिंग’ को बदलकर ‘डंकी ट्रेडिंग’ नाम कर दिया जाना चाहिए, क्योंकि घोड़े तो ईमानदार और वफादार होते हैं।

मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा था कि राजनीति में लोकतंत्र को बचाने के लिए कभी-कभी दिल पर पत्थर रखना पड़ता है। वहीं, दो दिन पहले भी कांग्रेस के विधायकों ने मांग की थी कि सचिन पायलट खेमे के विधायकों को वापस नहीं लया जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here