Yes Bank पर लगी RBI की रोक, निकासी सीमा 50,000 रुपये तय

RBI ने देर शाम जारी बयान में कहा कि Yes Bank के निदेशक मंडल को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया गया है और SBI के पूर्व CFO प्रशांत कुमार को Yes Bank का प्रशासक नियुक्त किया गया है.

0
817

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने नकदी संकट से जूझ रहे यस बैंक (Yes Bank) से निकासी की सीमा तय कर दी है. RBI के इस आदेश के बाद अब ग्राहक 50 हजार रुपये से ज्यादा नहीं निकाल सकेंगे. RBI के अनुसार फिलहाल यह रोक 5 मार्च से 3 अप्रैल तक लगी रहेगी. भारतीय रिजर्व बैंक ने Yes Bank के निदेशक मंडल को भी भंग करते हुए उसपर प्रशासक नियुक्त कर दिया है. RBI ने बैंक के जमाकर्ताओं पर निकासी की सीमा सहित इस बैंक के कारोबार पर कई तरह की पाबंदिया भी लगा दी हैं.

केंद्रीय बैंक ने अगले आदेश तक Yes Bank के ग्राहकों के लिए निकासी की सीमा 50,000 रुपये तय की है. Yes Bank का नियंत्रण भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व में वित्तीय संस्थानों के एक समूह के हाथ में देने की तैयारी की गई है. RBI ने देर शाम जारी बयान में कहा कि Yes Bank के निदेशक मंडल को तत्काल प्रभाव से भंग कर दिया गया है और भारतीय स्टेट बैंक (SBI) के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी (CFO) प्रशांत कुमार को Yes Bank का प्रशासक नियुक्त किया गया है. इससे करीब छह माह पहले रिजर्व बैंक ने बड़ा घोटाला सामने आने के बाद PMC Bank के मामले में भी इसी तरह का कदम उठाया था. यस बैंक काफी समय से डूबे कर्ज की समस्या से जूझ रहा है.

RBI ने Yes Bank के कुछ ग्राहकों को 50 हजार की निकासी सीमा से कुछ छूट भी दी है. इनमें वो ग्राहक शामिल हैं, जिन्हें कोई मेडिकल इमरजेंसी, हायर एजुकेशन, शादी के खर्चे और आपात आर्थिक जरूरत है. इन ग्राहकों पर 50 हजार की सीमा लागू नहीं होगी.

सार्वजनिक क्षेत्र का SBI और अन्य वित्तीय संस्थान नकदी संकट से जूझ रहे निजी क्षेत्र के Yes Bank को संकट से उबारेंगे. सूत्रों ने कहा कि सरकार ने SBI की अगुवाई वाले बैंकों के समूह को Yes Bank के अधिग्रहण की मंजूरी दे दी है. दिनभर Yes Bank को लेकर गतिविधियां चलती रहीं. इस दौरान SBI के निदेशक मंडल की बैठक भी हुई. ऐसी भी चर्चाएं है कि LIC से सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक के साथ मिलकर हिस्सेदारी खरीदने की योजना पर काम करने को कहा गया है. कुल मिलाकर दोनों की यंस बैंक में हिस्सेदारी 49 प्रतिशत रहे सकती है. Yes Bank में LIC पहले ही आठ प्रतिशत की हिस्सेदार है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here