उत्तराखंड सड़क हादसाः 28 सीट की बस में 61 लोग थे सवार, 48 की मौत

0
225

उत्तराखंड के पौड़ी जिले में स्थित धूमाकोट तहसील के नैनीडांडा ब्लॉक के ग्वीन गांव के पास गढ़वाल मोटर यूजर्स की एक बस खाई में गिरने से 48 लोगों की मौत हो गई। इस घटना में हैरान करनेवाली बात सामने आई है जो बस दुर्घटना का शिकार हुई है वह 28 सीटर थी लेकिन दुर्घटना के वक्त बस में 61 लोग सवार थे। ग्वीन गांव के पुल को पार करते वक्त बस ड्राइवर ने गड्ढे से गाड़ी को बचाने की कोशिश की तभी गाड़ी अनियंत्रित होकर खाई में जा गिरी। मृतकों के बारे में जानकारी देते हुए पौड़ी के जिलाधिकारी सुशील कुमार के मुताबिक, मरनेवालों में 16 महिलाएं, 22 पुरुष और 10 बच्चे शामिल हैं।

दुर्घटना की सूचना मिलते ही धूमाकोट, रामनगर, नैनीताल और पौड़ी से पुलिस प्रशासन समेत स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे। जिला प्रशासन की ओर से घटनास्थल पर ही पोस्टमॉर्टम करवाकर शव परिजनों को सौंप दिए गए। घटना के बाद शाम करीब 4 बजकर 45 मिनट पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी मौके पर जायजा लेने पहुंचे। वह हेलिकॉप्टर के जरिए मसचूलासैंण रामनगर पहुंचे, जिसके बाद वह सड़क मार्ग से धूमाकोट गए। सीएम त्रिवेंद्र ने घटना पर शोक जताते हुए मृतकों के परिजनों ढांढस बंधाया।

इस हादसे में घायलों में से 11 को रामनगर में और एक को हायर सेंटर के लिए रिफर किया गया है। दुर्घटना मे एक सामान्य रूप से घायल शख्स को प्राथमिक चिकित्सा के बाद डिस्चार्ज कर दिया गया जबकि गंभीर रूप से घायल एक शख्स को एयरलिफ्ट कर ऋषिकेश एम्स में भर्ती किया गया है।

इस हादसे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट के जरिए संवेदना व्यक्त की है। पीएम ने कहा, ‘उत्तराखंड के पौड़ी-गढ़वाल में बस दुर्घटना से बहुत दुखी हूं। शोकग्रस्त परिवारों के साथ मेरी गहरी संवेदना है। मैं प्रार्थना करता हूं कि जल्दी घायलों के स्वास्थ्य में सुधार हो। बचाव अभियान चल रहे हैं और अधिकारी दुर्घटनास्थल पर सभी संभावित सहायता प्रदान कर रहे हैं।’

अमित शाह ने हादसे पर जताया शोक
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी ट्वीट के जरिए दुर्घटना पर शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा, ‘उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल में हुए हादसे में मृतकों के बारे में जानकर बहुत दुख हुआ। मेरी गहरी संवेदना शोकग्रस्त परिवारों के साथ है। मैं घायलों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं। इसके साथ ही स्थानीय बीजेपी इकाई को रेस्क्यू ऑपरेशन में शामिल होने को निर्देश दिए हैं।’

‘गड्ढे से बचाने के चक्कर में खाई में गिर गई बस’
हादसे में घायल शीशपाल सिंह ने बताया, ‘पुलिस पार करते वक्त तकरीबन 8 बजकर 45 मिनट पर गड्ढे से बचने की कोशिश में बस अनियंत्रित होकर खाी में पलट गई, जिसके बाद मैं बेहोश हो गया।’ बस दुर्घटना में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मृतकों के आश्रितों को दो-दो लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here