रोहित शेखर तिवारी की रहस्यमयी मौत की गुत्थी उलझी

रोहित शेखर तिवारी की मां उज्ज्वला तिवारी ने दावा किया है कि रोहित शेखर तिवारी और उनकी पत्नी के बीच शादी के पहले दिन से ही तनाव था.

0
460

पूर्व राज्यपाल और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे 40 साल के रोहित शेखर तिवारी की रहस्यमयी मौत की गुत्थी उलझती जा रही है. शुरुआत में लगा कि रोहित शेखर तिवारी मौत दिल का दौरा पड़ने या ब्रेन हेम्ब्रेज से हुई, मगर गुरुवार को जब दिल्ली पुलिस को एम्स अस्पताल से पोस्टमोर्टम रिपोर्ट मिली तो संदेह जताया गया कि रोहित की हत्या हुई है, किसी ने तकिए या दूसरी चीज से उसका मुंह दबाकर उसे मौत के घाट उतार दिया.

इस मामले पर रोहित शेखर तिवारी की मां के बयान ने और भी चौंका दिया है. रोहित शेखर तिवारी की मां उज्ज्वला तिवारी ने दावा किया है कि रोहित शेखर तिवारी और उनकी पत्नी के बीच शादी के पहले दिन से ही तनाव था. इन दोनों ने बीच लव मैरिज की थी. बता दें कि दिल्ली की क्राइम ब्रांच पुलिस रोहित शेखर तिवारी की पत्नी से पूछताछ कर रही है. रोहित शेखर की मां ने कहा कि शेखर ने बोला था मेरा राजनीतिक करियर ऊपर क्यो नही जा रहा है. सबका राजनीतिक करियर अच्छा जा रहा है. सबको टिकट मिलते हैं मुझे क्यों नहीं.

रोहित शेखर की मां ने कहा कि 12 अप्रैल को उत्तराखण्ड में वोट डालने के बाद हमने नीम करौली बाबा के दर्शन किये. 15 अप्रैल की रात करीब 10.30 बजे दिल्ली स्थित डिफेंस कॉलोनी में हम अपने घर आये. शेखर तिलक लेन वाले घर चला गया. मैं फिर तिलक लेन वाले घर चली गयी. फिर खाना खाने डिफेंस कॉलोनी वाले घर आई. मैंने अपूर्वा से पूछा कि शेखर कहां है तो शेखर की पत्नी ने कहा वो खाना खाकर सो गए.

मां ने बताया कि फिर शेखर उठ कर आ गया. रोहित ने उस दिन ड्रिंक की थी. फिर उसने मुझे कार में बिठाया और वापस मैं तिलक लेन चली गयी. शेखर की हाल ही में बाय पास सर्जरी हुई थी. दोपहर 2 बजे मैं यहां वापस आई. फिर मैं अस्पताल गई. मेरा समय बुक था, क्योंकि मेरे अंगूठे में दर्द था. अस्पताल जाने से पहले मैंने अपूर्वा से पूछा- शेखर क्या कर रहा है तो उसने बोला सो रहे हैं.

जैसे ही मैं अस्पताल पहुंची, इमरजेंसी के पास मेरी गाड़ी खड़ी थी, तब ही रमेश का फोन आया डिफेंस कॉलोनी वाले घर से, जल्दी वापस आए शेखर को अस्पताल ले जाना है. फिर मैंने रोहित के डॉक्टर दोस्त सुमित को फोन किया फिर मैं वापस एम्बुलेंस लेकर घर आई जल्दी. तब तक शायद अपूर्वा ने किसी गाड़ी में शेखर को नीचे लिटाया हुआ था.

आगे उन्होंने बताया कि मुझे समझ नहीं आ रहा था क्या हुआ. उन्होंने कहा कि पति पत्नी के रिश्ते अच्छे नहीं थे. शादी के पहले दिन से ही वो तनाव में रहता था. लव मैरिज थी दोनो की. बीच मे वो अपने घर चली गई थी कुछ महीने तक. उन्होंने कहा कि डिफेंस कॉलोनी वाला घर मेरे नाम पर है. मुझे नहीं पता किसने कत्ल किया. दोनों के बीच में झगड़ा होता मगर बीच-बीच में फिर अच्छे से बात करते थे. 3 मार्च से 29 मार्च तक अपूर्वा अपने मायके थी. फिर 30 मार्च को वह वापस डिफेंस कॉलोनी आई.

वहीं, अपूर्वा के पिता पीके शुक्ला ने पूछताछ के दौरान कहा कि मैं कल्पना नहीं कर सकता कि मेरी लड़की ऐसा करेगी. मेरी बेटी ऐसा नहीं कर सकती. दोनों के संबंध अच्छे थे. कोई झगड़ा था. न ही किसी ने एक दूसरे की शिकायत की है. पुलिस इनसे भी पूछताछ कर रही है. बता दें कि अभी क्राइम ब्रांच घर के सभी सदस्यों से पूछताछ कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here