दूसरे दिन भी शेयर बाजार में भारी गिरावट, बाजार एक घंटे के लिए बंद

Sensex 1564 अंकों की गिरावट के साथ के 31,214 स्तर पर खुला तो वहीं Nifty करीब 755.25 अंक लुढ़क कर के 8,834.90 स्तर पर।

0
1245

Share Bazaar: महामारी घोषित होने के बाद कोरोना (Coronavirus) का असर दुनिया भर के शेयर बाजारों में हाहाकर के बाद आज भारतीय शेयर बाजार (सेंसेक्स और निफ्टी) में एक और बड़ी गिरावट दर्ज की जा रही है। Sensex 1564 अंकों की गिरावट के साथ के 31,214 स्तर पर खुला तो वहीं Nifty करीब 755.25 अंक लुढ़क कर के 8,834.90 स्तर पर। बाजार खुलने के चंद मिनटों में ही Sensex 3090.62 अंक टूट गया। Nifty 966.10 अंक यानी 10.07% टूटकर 8,624.05 के स्तर पर आ गया। इसके बाद इसे एक घंटे के लिए बंद कर दिया गया।

शेयर बाजार में अगर 10% या उससे ज्यादा की गिरावट दर्ज की जाती है, तो लोअर सर्किट लग जाता है और शेयर ट्रेडिंग रोक दी जाती है। आज सभी सेक्टर लाल निशान पर खुले। प्रीओपनिंग के दौरान Sensex सुबह 10.10 बजे 1564.01 अंक यानी 4.77% की गिरावट के साथ 31,214.13 के स्तर पर था।

अमेरिकी शेयर मार्केट डाउ जोंस में गुरुवार को लगातार दूसरे दिन रिकॉर्ड गिरावट के बाद बंद हुआ। डाउ जोंस गुरुवार को 2352 अंकों की गिरवाट के साथ बंद हुआ। एक्सपर्ट्स के मुताबिक अमेरिकी बाजार में इस गिरावट का असर Sensex और निफ्टी पर पड़ रहा है। बुधवार रात को जब डाउ जोंस में 1464 अंक की गिरावट दर्ज की गई थी, तब अगले दिन गुरुवार को Sensex में 2919 अंकों की एतिहासिक गिरावट के साथ बंद हुआ।

डाउ जोंस में गिरावट को देखते हुए लोअर सर्किट ब्रेकर लागू किया गया, इसके चलते ट्रेडिंग 15 मिनट तक रोकनी पड़ी। शेयर बाजार में अगर 10% या उससे ज्यादा की गिरावट दर्ज की जाती है, तो लोअर सर्किट लग जाता है और शेयर ट्रेडिंग रोक दी जाती है। इसके अलावा नैसडैक 9.43%, एसएंडपी 9.51%, हैंगसैंग 3.66%, सीएसी 12.28% निक्केई 9.48% टूट गया।

वॉल स्ट्रीट के 1987 के ब्लैक मंडे क्रैश के बाद वॉल स्ट्रीट को अपनी सबसे बड़ी गिरावट का सामना करने के बाद जापान के बेंचमार्क 10% डूबा। एशिया के शेयर बाजार भी औंधे मुंह गिरे हैं। कोरोनोवायरस संकट के कारण दुनिया भर के बाजारों से निवेशक आर्थिक गिरावट की आशंका के चलते निवेश से पीछे हट गए हैं और दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भी संकट में है।

भारतीय शेयर बाजार अबतक के इतिहास में सबसे बड़ी गिरावट दर्ज हुई। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक Sensex 2919 अंक गोता लगाने के बाद 32,778.14 के स्तर पर बंद हुआ। यह 52 हफ्ते का सबसे निचला स्तर है। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 825 अंकों के भारी नुकसान के साथ 9,633.10 के स्तर पर बंद हुआ।

WHO के प्रमुख ने कहा कि कोविड-19 को पैनडेमिक (विश्वव्यापी महामारी) माना जा सकता है। इसके बाद दुनिया भर के शेयर बाजार में ही महामारी फैल गई। दलाल स्ट्रीट पर मची इस तबाही में निवेशकों के 11 लाख करोड़ रुपये डूब गए और बीएसई का कुल बाजार पूंजीकरण घटकर 127 लाख करोड़ रुपये हो गया, जो बुधवार को कारोबार बंद होने पर 137 लाख करोड़ रुपये था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here