पुलिस का आरोप, CAA के खिलाफ धरना प्रदर्शन के दौरान सलमान खुर्शीद और बृंदा करात जैसे नेताओं ने दिए थे भड़काऊ बयान

दिल्ली पुलिस ने यह दावा दिल्ली दंगों के मामले में दाखिल आरोप पत्र में इशरत जहां और खालिद सैफी तथा सुरक्षित गवाह के बयानों के आाधार पर किया है।

0
704

दिल्ली पुलिस ने यह दावा किया कि CAA के खिलाफ धरना प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद (Salman Khurshid), बृंदा करात (Brinda Karat) और उदित राज (Udit Raj) जैसे नेताओं ने भड़काऊ भाषण दिए थे। दिल्ली पुलिस ने यह दावा दिल्ली दंगों के मामले में दाखिल आरोप पत्र में इशरत जहां (Ishrat Jahan) और खालिद सैफी (Khalid Saifi) तथा सुरक्षित गवाह के बयानों के आाधार पर किया है।

कड़कड़डूमा अदालत (Karkardooma Court) में दाखिल आरोप पत्र में पूर्व कांग्रेसी पार्षद इशरत जहां तथा सुरक्षित गवाह के बयानों का हवाला देते हुए कहा है कि इन्होंने अपने बयानों में नेताओं के भड़काऊ भाषणों का जिक्र किया है।

आरोप पत्र में कहा गया है कि सुरक्षित गवाह ने अपने बयान में कहा है कि उदित राज, खुर्शीद और करात जैसे कई बड़े नेता और JNU का पूर्व छात्र नेता उमर खालिद खुरेजी धरना स्थल पर आए थे और वहां CAA तथा NPR के खिलाफ भाषण दिए थे।

वहीं आरोप पत्र में यह भी कहा गया है कि इशरत जहां ने अपने इकबालिया बयान में कहा है कि सीएए के खिलाफ धरने को लंबा खींचने के लिए खुर्शीद, फिल्मकार राहुल रॉय, भीम आर्मी सदस्य हिमांशु, चंदन कुमार समेत कई बड़े नेताओं को उसने तथा खालिद सैफी ने जामिया कॉर्डीनेशन कमेटी (JCC) के कहने पर बुलाया था। इन लोगों ने भड़काऊ भाषण दिए थे जिसके कारण धरने में बैठे लोग सरकार के खिलाफ हो गए थे।

पुलिस ने सैफी के इकबालिया बयान का जिक्र करते हुए कहा है कि जनवरी 2020 में CAA विरोधी धरने में स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव, वरिष्ठ अधिवक्ता प्रशांत भूषण, खुर्शीद इन भाषणों में आते थे। सैफी के पूरक बयान में यह भी कहा गया है कि धरने को लंबा खींचनेे के लिए खुर्शीद, शरजील इमाम, JCC के सदस्य मीरान हैदर को खुरेजी धरना स्थल पर बुलाया गया था। इन लोगों को सैफी व इशरत जहां ने बुलाया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here