गहरे प्रेम से बना यौन सम्बन्ध नहीं माना जाएगा “रेप”

0
223
BOMBAY HIGH COURT

यौन सम्बन्ध को लेकर बॉम्बे हाई कोर्ट ने अपने फैसले में आज कहा कि अपनी मर्जी से किसी महिला का पुरुष से शारीरिक सम्बन्ध बनाना रेप नहीं ठहराया जाएगा कोर्ट ने कहा यदि पुरुष और महिला में अगर गहरे प्रेम के चलते शारीरिक सम्बन्ध बनाया गया है तो किसी भी तथ्यों की गलत व्याख्या के आधार पर पुरुष पर रेप का आरोप नहीं माना जाएगा।

वहीं बॉम्बे हाई कोर्ट ने काफी समय से चल रहे योगेश पालेकर मामले पर आज फैसला देते हुए योगेश पालेकर को बाइज़्त बरी कर दिया है। बता दें योगेश पर आरोप था कि उन्होंने महिला से शादी का वादा कर उससे रेप किये जिसके बाद कोर्ट ने उन्हें 7 साल की जेल और 10 हज़ार जुर्माना देना कोर्ट ने अपने फैसले में बताया था साल 2013 में कोर्ट ने मामले की छानबीन करके आरोपी योगेश से सज़ा और जुर्माने का फैसला हटा लिया। बता दें योगेश एक कसीनो में काम करते थे और वहीं पर काम करने वाली एक लड़की से उनका अफेयर हुआ जिसके बाद उनका शारीरिक सम्बन्ध बना।

कोर्ट ने जब सुनवाई के लिए महिला से पुछा तो महिला ने अपने बयांन बताया कि उसने कई बार योगेश की आर्थिक मदद भी की है। बॉम्बे कोर्ट जस्टिस सी. वी. भदांग ने फैसले पर गौर करते हुए कहा कि पूरे केस की सुनवाई के बाद पता चला कि दोनों में शारीरिक सम्बन्ध गहरे प्रेम और आपसी सहमति के अनुसार बनाए गए हैं। इसलिए योगेश किसी तरह से दोषी नहीं है

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here