प्रवासी मजदूरों को घर भेजने में कुछ राज्यों ने नहीं किया सहयोग – पीयूष गोयल का ममता बनर्जी पर निशाना

लगभग 40 लाख लोग हैं जो पश्चिम बंगाल लौटना चाहते हैं लेकिन अभी तक केवल 27 विशेष ट्रेनें ही राज्य में प्रवेश कर सकी हैं - रेल मंत्री

0
544

रेल मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने पश्चिम बंगाल सरकार पर हमला करते हुए कहा कि कुछ राज्यों ने प्रवासी श्रमिकों को उनके घरों में वापस भेजने के लिए विशेष ट्रेनें चलाने के लिए हमारे साथ सहयोग नहीं किया। मुझे लगता है कि लगभग 40 लाख लोग हैं जो पश्चिम बंगाल लौटना चाहते हैं लेकिन अभी तक केवल 27 विशेष ट्रेनें ही राज्य में प्रवेश कर सकी हैं।

बता दें कि इससे पहले केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल की तृणमूल सरकार के बीच कोरोना संकट के दौर में भी लगातार ठनी रही। पहले Lockdown के प्रावधानों को ठीक से लागू न करने की शिकायत केंद्र राज्य सरकार से कर चुका है। अब अलग-अलग राज्यों में फंसे पश्चिम बंगाल के मजदूरों की घर वापसी के लिए अपेक्षित सहयोग न मिलने की बात कहते हुए गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) को हाल ही में चिट्ठी लिखी थी।

शाह (Amit Shah) ने चिट्ठी में कहा था कि केंद्र सरकार को प्रवासी श्रमिकों को घर तक पहुंचने में मदद करने के लिए बंगाल सरकार से अपेक्षित समर्थन नहीं मिल रहा है। उन्होंने बताया कि केंद्र ने 200,000 से अधिक प्रवासी मजदूरों को घर तक पहुंचाने की सुविधा प्रदान की है और पश्चिम बंगाल के श्रमिक भी वापस जाने के लिए उत्सुक हैं। पत्र में कहा गया है, “पश्चिम बंगाल सरकार प्रवासियों के साथ गाड़ियों को राज्य में पहुंचने की अनुमति नहीं दे रही है। यह पश्चिम बंगाल के प्रवासी मजदूरों के साथ अन्याय है। इससे उनके लिए और कठिनाई पैदा होगी।” कोरोना वायरस को नियंत्रित करने के राज्य के प्रयासों के बीच प्रवासी श्रमिकों का मुद्दा केंद्र और पश्चिम बंगाल सरकार (West Bengal Government) के बीच नया विवाद बन गया है।

इसके बाद पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार ने बीते शनिवार को ऐलान किया कि वो अपने राज्य के प्रवासियों का ट्रेन से आने का पूरा खर्च उठाएगी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि किसी भी प्रवासी से टिकट का पैसा नहीं लिया जाएगा। ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) ने कहा कि प्रवासी भाईयों को जिस प्रकार से कठिक परिस्थितियों का सामना करना पड़ा रहा है, मैं उन्हें सलाम करती हूं। मुझे अन्य राज्यों से स्पेशल ट्रेनों द्वारा पश्चिम बंगाल पहुंच रहे प्रवासी कामगारों का पूरा खर्च वहन करने इस फैसले की घोषणा करते हुए प्रसन्नता हो रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here