आन्धी तूफान से तबाही पर PM मोदी का Tweet, कमलनाथ ने उठाया सवाल, PMO से तुरन्त आया जवाब ।

पीएम मोदी के Tweet पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सवाल उठाया जिसके घंटेभर बाद ही PMO का जवाब आ गया।

0
281

देशभर में बारिश, आंधी-तूफान और आकाशीय बिजली गिरने की वजह से अलग-अलग राज्यों में अभी तक 41 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि कई लोग घायल हैं। भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि पाकिस्तान से आए पश्चिमी विक्षोभ के कारण यह स्थिति बुधवार शाम तक रहेगी। वहीं चुनावी मौसम में प्राकृतिक आपदा पर भी राजनीति गरमा गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने Tweet कर घायलों और मृतकों के लिए दुख जताया और मुआवजे का भी एलान किया लेकिन उन्होंने ऐसा सिर्फ गुजरात के लिए ही किया।

पीएम मोदी के Tweet पर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सवाल उठाया जिसके घंटेभर बाद ही PMO का जवाब आ गया। बता दें कि गुजरात और मध्यप्रदेश में आकाशीय बिजली गिरने से सबसे अधिक लोगों की मौत हुई है।

बुधवार सुबह सबसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने Tweet कर पीड़ित परिवारों के लिए संवेदना व्यक्त की। पीएम मोदी ने कहा, गुजरात के विभिन्न हिस्सों में बेमौसम बारिश और तूफान के कारण कई लोगों की जान चली गई। पीड़ित परिवार के लिए मेरी संवेदनाएं हैं। गुजरात के विभिन्न हिस्सों में बेमौसम बारिश और तूफान के कारण जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से 2-2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि को मंजूरी दी है। इसके अलावा घायलों को पचास हजार रुपये देने की घोषणा की है।

पीएम मोदी के Tweet के बाद कमलनाथ ने Tweet किया। कमलनाथ ने पीएम मोदी पर हमला करते हुए कहा कि “मोदी जी, आप देश के पीएम हैं न कि गुजरात के। MP में भी बेमौसम बारिश व तूफान के कारण आकाशीय बिजली गिरने से 10 से अधिक लोगों की मौत हुई है। लेकिन आपकी संवेदनाएं सिर्फ गुजरात तक सीमित ? भले यहां आपकी पार्टी की सरकार नहीं है लेकिन लोग यहां भी बसते हैं।”

कमलनाथ द्वारा सवाल उठाए जाने के घंटेभर बाद ही प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से Tweet किया गया। PMO के Tweet में कहा गया कि बेमौसम बारिश और तूफान के कारण जान गंवाने वाले मध्यप्रदेश, राजस्थान, मणिपुर और अन्य राज्यों के लोगों को दो-दो लाख की सहायता राशि दी जाएगी। जबकि घायलों को 50-50 हजार रुपये दिए जाएंगे।

देशभर में बारिश, आंधी-तूफान और आकाशीय बिजली गिरने की वजह से काफी जान-माल का नुकसान हुआ है। आकाशीय बिजली गिरने से देश के अलग-अलग राज्यों में अभी तक 41 लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि उतने ही घायल हैं। तूफान और आकाशीय बिजली गिरने सबसे ज्यादा नुकसान मध्यप्रदेश में हुआ है। मध्यप्रदेश में अभी तक 16 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि कई घायल हैं।

मुख्यमंत्री कमलनाथ सिंह ने Tweet कर पीड़ित परिवारों के लिए संवेदना व्यक्त की। कमलनाथ ने कहा, “आकाशीय बिजली गिरने से इंदौर, धार जिले में व प्रदेश के अन्य स्थानों पर जनहानि की बेहद दुखदायी घटनाएं सामने आई हैं। पीड़ित परिवारों के प्रति मेरी शोक संवेदनाएं। मैं और मेरी सरकार दुख की इस घड़ी में पीड़ित परिवार के साथ खड़े हैं।”

मंगलवार की शाम को मौसम अचानक बदल गया। गुजरात, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, राजस्थान, झारखंड, हिमाचल, हरियाणा और नई दिल्ली में बारिश, आंधी और बिजली गिरने से 41 लोगों की मौत हो गई। जबकि उतने ही घायल हैं। ज्यादा नुकसान गुजरात, राजस्थान और मध्यप्रदेश में हुआ है। मध्यप्रदेश में 16, गुजरात में 11, राजस्थान में 7, पंजाब में 2, हरियाणा, झारखंड, महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश और हिमाचल प्रदेश में एक-एक मौत हुई है।

भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि पाकिस्तान से आए पश्चिमी विक्षोभ और पिछले 3-4 दिनों से चल रही हीटवेव के चलते देश के पश्चिम-उत्तर हिस्से, मध्य क्षेत्र व विदर्भ और प.बंगाल तक तेज आंधी, गरज और बिजली तड़कने के साथ बारिश और ओले गिरे। यह स्थिति बुधवार शाम तक रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here