मुख्यमंत्री मनोहर लाल के दो मंत्री मुश्किल में, कोर्ट ने दिखाया कड़ा रुख।

मनोहरलाल सरकार में लाेकनिर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह पर विधानसभा चुनाव 2014 में शैक्षणिक योग्यता के बारे में गलत शपथ पत्र देना का आरोप है।

0
98

Haryana: हरियाणा के दो मंत्री मनीष ग्रोवर (Manish Grover) और राव नरबीर सिंह (Rao Narbeer Singh) मुश्किल में पड़ गए हैं। रोहतक की अदालत ने लोकसभा चुनाव के दौरान रोहतक (Rohtak) शहर में बूथ कैप्चरिेंग (Booth Capturing) के मामले में हरियाणा के सहकारिता राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर सहित दो लोगों के खिलाफ FIR दर्ज करने का आदेश दिया है।

वहीँ दूसरी ओर, चंडीगढ़ में पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने श‍ैक्षणिक योग्‍यता मामले में राज्‍य के लोकनिर्माण मंत्री राव नरबीर (Rao Narbeer Singh) को नोटिस किया है। हाई कोर्ट ने राव नरबीर से पूछा है कि उनके खिलाफ धोखाधड़ी का केस क्‍यों न दर्ज किया जाए।

मनोहरलाल सरकार में लाेकनिर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह पर विधानसभा चुनाव 2014 में शैक्षणिक योग्यता (Education Qualification) के बारे में गलत शपथ पत्र देना का आरोप है। इस मामले पर अब हाई कोर्ट (High Court) में सुनवाई चल रही है। बुधवार को इस मामले में हाई कोर्ट में सुनवाई हुई। सवा घंटे की बहस के बाद हाई कोर्ट की खंडपीठ ने मंत्री राव नरबीर को नोटिस जारी करने का फैसला किया। हाई कोर्ट ने नोटिस के माध्यम से मंत्री से पूछा है कि उनके खिलाफ क्यों न IPC की धारा 420 के तहत झूठा शपथ पत्र देने और धोखाधड़ी करने का केस चलाया जाए।

बता दें कि गुरुग्राम के RTI कार्यकर्ता हरेंद्र धींगडा ने इस मामले में याचिका दायर की थी। पहले यह मामला गुरुग्राम कोर्ट में दायर किया गया था। वहां जज नवीन कुमार की अदालत द्वारा इसे खारिज कर दिया गया। इसके बाद मामला हाई कोर्ट पहुंचा। हाई कोर्ट अब निचली अदालत के फैसले की भी विवेचना करेगा।

दूसरी ओर, रोहतक की अदालत के आदेश से मनोहरलाल सरकार में सहकारिता राज्य मंत्री मनीष ग्रोवर मुश्किल में पड़ गए हैं। अदालत ने Loksabha Election 2019 के दौरान मतदान के दिन राेहतक शहर में बूथ कैप्‍चरिंग के मामले में मनीष ग्रोवर और रमेश लोहार के खिलाफ FIR दर्ज करने का बुधवार को आदेश दिया।

लोकसभा चुनाव (Loksabha Election 2019) में रोहतक जिला बार एसोसिएशन के प्रधान लोकेंद्र फोगाट ने मनीष ग्रोवर और रमेश लोहार पर बूथ कैप्‍चरिंग के आरोप लगाए थे। इस मामले में रोहतक की अदालत ने IPC की धारा 156 (3 ) के तहत FIR दर्ज करने के निर्देश दिए। ऐसे में अब मनीष ग्राेवर की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here