उद्धव ठाकरे के सौम्य और सहज व्यवहार ने सबको कर दिया दंग।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने तहसीलदार से कहा, 'आप इस कार्यालय के और इमारत के इंजार्ज हैं और इसी कारण आपको ही कुर्सी पर बैठना चाहिए।'

0
358

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के सांगली दौरे को दौरान एक ऐसी घटना घटी जिसने सभी का दिल जीत लिया। ठाकरे सांगली जिले के वालवा तहसील में मुख्य प्रशासकीय इमारत का उद्घाटन करने के लिए पहुंचे थे। उद्घाटन के बाद वह इमारत का मुआयना करते हुए तहसीलदार (राजस्व विभाग के अधिकारी) के लिए बने कमरे में पहुंचे तो उन्हें तहसीलदार की कुर्सी पर बैठाया गया। मगर जैसे ही उन्हें समझ में आया कि वह तहसीलदार की कुर्सी पर बैठे हैं, ठाकरे तुरंत उससे उठ गए और तहसीलदार को उसपर बैठाया।

ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने पिछले साल राज्य की विधायिका में घोषणा की थी कि वह सत्ता के विकेंद्रीकरण के पक्ष में हैं। उन्होंने घोषणा की थी कि ‘मुख्यमंत्री के कार्यालय’ राज्य भर में मंडल स्तर पर स्थापित किए जाएंगे। आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार मुख्यमंत्री ने तहसील का उद्घाटन किया और जल संसाधन मंत्री जयंत पाटिल के साथ इमारत का मुआयना किया।

मुख्यमंत्री (Uddhav Thackeray) तहसीलदार की कुर्सी से उठे और तमाम नेताओं और बड़े अधिकारियों की भीड़ में पीछे खड़े तहसीलदार रवींद्र सबनीस के पास पहुंचे। वह उन्हें अपने साथ कुर्सी के पास लाए। ठाकरे ने उसने पूछा, ‘आप ही तहसीलदार हैं न? फिर यह कुर्सी आपकी है, इसपर आप ही बैठिए।’

तहसीलदार ने मुख्यमंत्री (Uddhav Thackeray) से कहा कि वह मुख्यमंत्री, जिला अभिभावक जयंत पाटिल और जिलाधिकारी की मौजूदगी में मैं कुर्सी पर नहीं बैठ सकता। जिसपर ठाकरे ने कहा, ‘आप इस कार्यालय के इंचार्ज और इमारत के इंजार्ज हैं और इसी कारण आपको ही कुर्सी पर बैठना चाहिए।’

राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के इस सौम्य और सहज व्यवहार को देखकर सभी उनकी तारीफ कर रहे हैं। तहसीलदार को उनकी कुर्सी पर बैठाने के बाद ठाकरे उनके बगल में खड़े रहे। उन्होंने जताई की वह तहसील कार्यालय में आने वाले आम लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करेंगे और उनको यथोचित सम्मान देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here