अमेरिका और कनाडा का आरोप- यूक्रेन के प्लेन पर किया गया मिसाइल से हमला

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो (Justin Trudeau) ने कहा है कि हमारे पास कई स्रोतों से खुफिया जानकारी मिली है कि ईरान ने यूक्रेन विमान को मारा है।

0
800

अमेरिका और ईरान में जारी तनाव के बीच यूक्रेन प्लेन क्रैश (Ukrainian Plane Crash) को लेकर तेहरान (Tehran) पर चौतरफा आरोप लग रहे हैं। बीते दिनों ईरान की राजधानी तेहरान में यूक्रेन का प्लेन क्रैश हो गया था, जिसमें करीब 176 यात्रियों की मौत हो गई थी। अब इस मामले में नया मोड़ आया है। एक ओर जहां ईरान (Iran) इसे महज हादसा करार दे रहा है, वहीं अमेरिका और कनाडा इसे हमला बता रहा है। ईरान का दावा है कि यूक्रेन का विमान खामी सामने आने के बाद विपरीत दिशा में मुड़ गया था, जिसकी वजह से यह हादसा हुआ है। वहीं, अमेरिका (America) का दावा है कि ईरान ने गलती से यूक्रेन के विमान को मार गिराया।

हालांकि, यूक्रेन विमान क्रैश मामले की जांच के लिए यूक्रेन ने संयुक्त राष्ट्र बिना शर्त के सहयोग मांगा है। इस बीच यूक्रेन के विशेषज्ञ गुरूवार को जांच में शामिल हो गये। इसके अलावा, कनाडा और अमेरिका ने बुधवार को हुए हादसे के कारण का पता लगाने के लिए पूर्ण जांच की मांग की है। फिलहाल इस तरह का कोई संकेत नहीं है कि यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइन्स (UIA) के विमान के उड़ान भरते ही नीचे आने के पीछे क्या कोई साजिश रही। यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लोदिमिर जेलेंस्की ने दुर्घटना के कारणों को लेकर अटकलें नहीं लगाने की चेतावनी दी है।

ईरान की राजधानी तेहरान के खोमैनी हवाई अड्डे के पास बुधवार को यूक्रेन के एक विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने को लेकर अमेरिकी अधिकारियों का मानना है कि ईरान ने ‘गलती’ से विमान को मार गिराया है। अमेरिकी अधिकारियों ने कयास लगाए हैं कि ईरान के हवाई सुरक्षा बलों ने गलती से यूक्रेन के विमान को निशाना बना लिया। एक अमेरिकी अधिकारी ने कहा कि अमेरिकी उपग्रहों ने विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने से कुछ समय पहले दो मिसाइलों के प्रक्षेपण का पता लगाया। जिसमें एक के विस्फोट के सबूत मिले हैं।

ANI के मुताबिक, कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो (Justin Trudeau) ने कहा है कि हमारे पास कई स्रोतों से खुफिया जानकारी मिली है कि ईरान ने यूक्रेन विमान को मारा है। उन्होंने कहा कि इंटेल इस ओर इशारा करते हैं कि विमान को सतह से हवा में मार करने वाली एक ईरानी मिसाइल से मार गिराया गया।

वहीं, अब यूक्रेन ने संयुक्त राष्ट्र से सहयोग की गुहार लगाई है। यूक्रेन ने विमान हादसे की जांच के लिए संयुक्त राष्ट्र से बिना शर्त सहयोग मांगा है। इसके अलावा, ईरान ने विमान हादसे की जांच के लिए बोईंग के अधिकारियों को भी आमंत्रित किया है। साथ ही ईरान ने कनाडा के प्रधानमंत्री से भी हादसे के पीछे उसका हाथ होने संबंधी रिपोर्ट भी साझा करने को कहा है।

इससे पहले ईरान ने कहा कि विमान हवाई अड्डे से उड़ान भरने के बाद शुरूआत में पश्चिम की ओर रवाना हुआ, लेकिन समस्या आने के बाद विपरीत दिशा में पलटा और दुर्घटना के समय हवाई अड्डे की तरफ आ रहा था। यूक्रेन के विमान ने बुधवार सुबह 6:12 बजे उड़ान भरी थी। विमान ने तेहरान के इमाम खुमेनी एयरपोर्ट से करीब एक घंटे की देरी से उड़ान भरी। विमान पश्चिम की ओर करीब 8000 फुट की ऊंचाई पर पहुंच गया था। अधिकारियों ने बताया कि विमान में विभिन्न देशों के 167 यात्री और चालक दल के नौ सदस्य थे जिनमें से 82 ईरानी नागरिक, 63 कनाडाई और 11 यूक्रेन के नागरिक थे।

ईरान की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि यूक्रेन इंटरनेशन एयरलाइंस (Ukraine International Airlines) द्वारा संचालित बोइंग 737 अचानक अटक गया, जिसके कारण विमान तेहरान में इमाम खुमैनी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद नीचे गिर गया। दुर्घटना से कुछ घंटे पहले ही ईरान ने इराक में अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर मिसाइल हमले किये। अमेरिका और ईरान के बीच टकराव की स्थिति चल रही है। अमेरिका ने ईरान के रिवॉल्यूशनरी गार्ड जनरल कासिम सुलेमानी को पिछले सप्ताह ड्रोन हमले में मार गिराया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here