उन्नाव रेप पीड़िता सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल

BJP के विधायक कुलदीप सेंगर पर आरोप लगाने वाली उन्नाव रेप पीड़िता एक सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गई.

0
154

भारतीय जनता पार्टी (BJP) के विधायक कुलदीप सेंगर (Kuldeep Sengar) पर आरोप लगाने वाली उन्नाव रेप (Unnao Rape Case) पीड़िता एक सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गई. हादसे में पीड़िता की मां, चाची और ड्राइवर की मौत हो गई, वहीं पीड़ित महिला और उसके वकील को गंभीर हालत में है.

हादसा उस समय हुआ जब पीड़ित लड़की अपने परिवार के साथ रायबरेली जेल (Raibareli jail) में बंद अपने चाचा से मिलकर वापस लौट रही थी. लड़की के चाचा जो उसका केस लड़ रहे थे वह इस समय रायबरेली जेल में हैं.

पुलिस ने बताया कि हादसे के दौरान भारी बारिश हो रही थी, जब रायबरेली (Raibareli) के गुरबख्श गंज इलाके में उल्टी दिशा से आ रही ट्रक ने कार को सामने से टक्कर मार दी. हादसे में कार के परखच्चे उड़ गए. ट्रक का नंबर भी मिटा हुआ था. पुलिस ने बताया कि ट्रक को जब्त कर दिया गया है वहीं, ड्राइवर फरार होने में सफल रहा. उन्होंने बताया कि ड्राइवर को गिरफ्तार करने के लिए अभियान चलाया जा रहा है साथ ही ट्रक के मालिक की भी खोज हो रही है.

बता दें कि उन्नाव रेप मामला (Unnao Rape) पिछले साल उस समय चर्चा में आया था जब, उस समय 16 साल की रही पीड़ित लड़की ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आवास के बाहर न्याय के लिए प्रदर्शन किया था. पीड़ित लड़की ने आरोप लगाया था कि 2017 में नौकरी के लिए जब वह बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर (Kuldeep Sengar) के घर गई थी तो उसके साथ बलात्कार किया गया था. घटना के लगभग एक साल बाद अप्रैल 2018 में लड़की ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के घर के बाहर खुद को आग लगाने की कोशिश की थी.

मालूम हो कि पीड़ित लड़की के पिता जो उसका केस लड़ रहे थे, कथित रूप से उनकी मौत कुलदीप सेंगर के भाई द्वारा गंभीर रूप से पिटाई के बाद हो गई थी. लड़की के पिता पर पुलिस ने आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया था और दो दिनों तक हिरासत में रखा था. पुलिस की निष्क्रियता से निराश लड़की ने आत्मदाह का प्रयास किया था.

कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Sengar) ने राजनीति की शुरुआत कांग्रेस से की थी और सेंगर ने वर्ष 2002 का चुनाव कांग्रेस की टिकट पर उन्‍नाव से जीता था. इसके बाद कांग्रेस का साथ छोड़कर 2007 में सेंगर ने BSP की टिकट पर बांगरमऊ विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की, लेकिन मायावती से भी ज्‍यादा वक्त तक नहीं बनी और सेंगर ने पार्टी छोड़ दी.

BSP का साथ छोड़ने के बाद कुलदीप सेंगर (Kuldeep Sengar) समाजवादी पार्टी में चले गए, और 2012 का विधानसभा चुनाव SP की टिकट पर लड़ा. मुलायम ने सेंगर को भगवंत नगर सीट से टिकट दी, और यहां कुलदीप की जीत हुई. इसके बाद राज्‍य में बदलते माहौल को भांपकर कुलदीप सिंह सेंगर ने समाजवादी पार्टी का साथ छोड़कर BJP का दामन थाम लिया.

उत्‍तर प्रदेश में 2017 में हुआ विधानसभा चुनाव कुलदीप सेंगर ने BJP की टिकट पर बांगरमऊ सीट से लड़ा, और चौथी बार जीत हासिल की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here