उन्नाव के कुलदीप सिंह सेंगर कांड में रायबरेली हादसे में घायल हुए दुष्कर्म पीड़िता के वकील की मौत

उन्नाव के चर्चित कुलदीप सिंह सेंगर कांड में रायबरेली हादसे में घायल हुए दुष्कर्म पीड़िता के वकील की सोमवार को मौत हो गई।

0
1865

उन्नाव के चर्चित कुलदीप सिंह सेंगर कांड में रायबरेली हादसे में घायल हुए दुष्कर्म पीड़िता के वकील की सोमवार को मौत हो गई। बता दें कि उन्नाव के माखी दुष्कर्म मामले की पीड़िता की कार को रायबरेली के थाना गुरुबख्शगंज में ट्रक ने 28 जुलाई 2019 को टक्कर मार दी थी।

हादसे में पीड़िता व उसके वकील महेंद्र सिंह घायल हो गए थे जबकि चाची व मौसी की मौत हो गई थी। सभी रायबरेली जेल में बंद चाचा से मिलने जा रहे थे। पीड़िता व वकील का इलाज चल रहा था। पीड़िता की हालत में तो सुधार हो गया था पर महेंद्र का डॉक्टरों ने घर पर ही इलाज किए जाने की राय दी थी। जिस पर उन्हें घर ले आया गया था। सोमवार को वकील महेंद्र ने भी घर पर दम तोड़ दिया। उनके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

उन्नाव के माखी के चर्चित दुष्कर्म कांड में आरोपित पूर्व विधायक कुलदीप सेंगर के खिलाफ अधिवक्ता महेंद्र सिंह ने अदालत में केस की पैरवी शुरू की थी। इस दौरान 28 अगस्त 2019 को पीड़िता रायबरेली चाचा से मिलने कार से जा रही थी। कार में उनके साथ अधिवक्ता महेंद्र सिंह, चाची और मौसी भी सवार थे।

रायबरेली के पास ट्रक ने कार में सामने से टक्कर मार दी थी। कार में सवार चाची और मौसी की मौत हो गई थी, जबकि पीड़िता और अधिवक्ता गंभीर रूप से जख्मी हो गए था। घायल अधिवक्ता का लंबे समय तक उपचार चला था। कुछ दिन पहले उन्हें घर भेज दिया गया था। अचानक हलात बिगड़ने पर अधिवक्ता महेंद्र सिंह को फिर जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

बता दें कि उन्नाव के माखी में रहने वाली युवती ने 4 जून 2017 को नौकरी देने के नाम पर विधायक कुलदीप सेंगर, उनके भाई व साथियों पर दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया था। हाईप्रोफाइल यह केस काफी सुर्खियों में रहा था। भाजपा ने कुलदीप सेंगर को पार्टी से निष्कासित कर दिया था। वहीं प्रकरण की जांच सीबीआइ को सौंप दी गई थी। सीबीआइ ने आरोपित कुलदीप सेंगर को गिरफ्तार किया था।

रायबरेली में हादसे के बाद सुप्रीम कोर्ट में प्रकरण का संज्ञान लेकर मामलों की सुनवाई दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में कराने का आदेश दिया था। कोर्ट में सुनवाई के बाद पूर्व विधायक कुलदीप सेंगर को कैद की सजा सुनाई गई थी। कोर्ट के आदेश पर आरोपित कुलदीप सेंगर को तिहाड़ जेल शिफ्ट किया गया था। सजा सुनाए जाने के बाद कुलदीप सेंगर की विधानसभा की सदस्यता समाप्त कर दी गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here