बगदाद एयरपोर्ट पर अमेरिकी हवाई हमले में ईरान के कुद्स फोर्स के चीफ कासिम सुलेमानी समेत 7 की मौत

अमेरिका ने शुक्रवार को बगदाद एयरपोर्ट पर एक एयर स्‍ट्राइक की जिसमें ईरान समर्थित कुर्द बल के प्रमुख मेजर जनरल कासिम सुलेमानी (Qasim Sulemani) की मौत हो गई।

0
627

USA Airstrike at Baghdad इराक की राजधानी बगदाद में स्थिति अमेरिकी दूतावास पर हुए हमले के बाद अमेरिका ने बहुत सख्‍त कार्रवाई की है। अमेरिका ने शुक्रवार को बगदाद एयरपोर्ट पर एक एयर स्‍ट्राइक की जिसमें ईरान समर्थित कुर्द बल के प्रमुख मेजर जनरल कासिम सुलेमानी (Qasim Soleimani) की मौत हो गई।

रिपोर्टों में कहा गया है कि सुलेमानी का काफिला बगदाद एयरपोर्ट की ओर बढ़ रहा था तभी एक रॉकेट हमले की जद में आ गया। हमले में ईरान समर्थित मिलिशिया पॉपुलर मोबलाइजेशन फोर्स (Popular Mobilization Forces or PMF) के डिप्टी कमांडर अबू महदी अल-मुहांदिस (Abu Mahdi al-Muhandis) की भी मौत हो गई।

अधिकारियों ने बताया कि हमले में कुल आठ लोगों की मौत हुई है। सुलेमानी पश्चिम एशिया में ईरानी गतिविधियों को चलाने के प्रमुख रणनीतिकार थे। सुलेमानी (Qasim Soleimani) पर इजरायल में भी रॉकेट हमलों को अंजाम देने का आरोप था।समाचार एजेंसी एपी ने एक इराकी राजनेता एवं उच्‍च पदस्‍थ अधिकारी के हवाले से हमले में सोलेमानी और अल-मुहांदिस के मारे जाने की पुष्टि की। यही नहीं इनके अलावा ईरान के दो वफादार मिलिसिया नेताओं के भी मारे जाने की पुष्टि हुई है। मारे गए अधिकारियों में अमेरिकी दूतावास पर हमले में शामिल रहे कैतब हिजबुल्लाह का एक अधिकारी भी शामिल है। रिपोर्टों में कहा गया है कि अमेरिका को सुलेमानी की शिद्दत से तलाश थी।

रिपोर्टों के मुताबिक, सुलेमानी (Qasim Soleimani) का विमान बगदाद एयरपोर्ट पर पहुंचा था। विमान से उतरने के बाद सुलेमानी अभी मुहांदिस से मिल ही रहे थे कि अमेरिकी मिसाइल आकर गिरी जिससे सभी लोग मौके पर ही मारे गए। सुलेमानी के शव की पहचान उनकी अंगूठी से हुई। वहीं इराकी सेना की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि बगदाद में अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर अमेरिका की ओर से तीन रॉकेट दागे गए जिनसे दो कारों में विस्फोट हुआ।

समाचार एजेंसी AP की रिपोर्ट में कहा गया है कि इन बड़े सैन्‍य अधिकारियों की मौत से मध्‍य पूर्व की परिस्‍थितियों के लिए एक बड़ा टर्निंग प्‍वाइंट है। माना जा रहा है कि ईरान इस हमले का करारा जवाब देगा जिससे हालात बिगड़ सकते हैं। यही नहीं जवाबी हमलों से अमेरिकी और इजराइली हितों को नुकसान भी हो सकता है। पिछले साल ईरान और अमेरिका के बीच तनाव उपजा था जो समय के साथ और बढ़ता जा रहा है। मौजूदा वक्‍त में अमेरिका ने ईरान पर कई तरह की पाबंदियां लगा रखी हैं। इन्‍हें हटाने को लेकर ईरान की ओर से भी समय समय पर तल्‍ख बयान सामने आते रहे हैं।

पॉपुलर मोबिलाइजेशन फोर्सेज यानी PMF ने इस हमले के पीछे अमेरिका का हाथ बताया है। फ‍िलहाल अमेरिका और इजराइल की ओर से अभी कोई कथित प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई है। लेकिन, अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने अपने ट्विटर हैंडलर से अमेरिकी ध्‍वज को ट्वीट किया है। बिना टेक्स्ट के किए गए इस ट्वीट को माना जा रहा है कि इसके जरिए ट्रंप ने एक सख्‍त संदेश देने की कोशिश की है। वहीं अमेरिकी मीडिया ने पेंटागन के शीर्ष अधिकारियों के हवाले से बताया कि यह हमला अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के आदेश पर किया गया। मालूम हो कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप ने बगदाद स्थित अमेरिका दूतावास पर इराकी प्रदर्शनकारियों के हमले के पीछे ईरान को दोषी ठहराया था। उन्‍होंने चेतावनी दी थी कि अमेरिका इसके दोषियों पर कार्रवाई करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here