COVID-19: लखनऊ संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित, हर दिन टूट रहा मरीजों का रिकॉर्ड।

राजधानी लखनऊ में सबसे अधिक 4444 नए मरीज मिले हैं और 31 मौत हुई हैं। अब एक्टिव मरीजों की संख्या बढक़र 71241 हो गई है।

0
382

पूरे देश के साथ ही उत्तर प्रदेश में भी कोरोना ने एक बार फिर से रफ्तार पकड़ ली है। प्रदेश में रविवार को 15353 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले हैं। साथ ही 67 संक्रमित मरीजों की मौत भी हो गई है। राजधानी लखनऊ में सबसे अधिक 4444 नए मरीज मिले हैं और 31 मौत हुई हैं। अब एक्टिव मरीजों की संख्या बढक़र 71241 हो गई है। शनिवार को कुल 203780 नमूनों की जांच की गई।

हालांकि, अब तक कुल रिकवर होने वाले मरीजों की संख्या छह लाख 11 हजार 622 है। वहीं, 85 लाख, 15 हजार, 296 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। बता दें कि एक दिन पहले शनिवार (10 अप्रैल) को प्रदेश में 12787 मरीज मिले थे। इसके पहले शुक्रवार (9 अप्रैल) को 9695 व गुरुवार (8 अप्रैल) को 8490 कोरोना मरीज मिले थे।  आज यानी रविवार को चौथा दिन है जब कोरोना मरीजों की संख्या रिकॉर्ड तोड़ रही है।

मेरठ में कोरोना से एक की मौत हो गई और 219 मरीज संक्रमित मिले। वहीं, सहारनपुर में 148, मुज़फ्फरनगर में 126, शामली में 18 और बागपत में 23 संक्रमित मिले हैं। कुल 563 मरीज संक्रमित मिले। 

वहीं, कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कक्षा एक से 12 तक के सभी सरकारी व निजी स्कूलों को 30 अप्रैल तक के लिए बंद किए जाने का निर्देश जारी कर दिया है। 

रविवार को टीम 11 के साथ आयोजित कोविड समीक्षा बैठक के दौरान उन्होंने कहा कि स्कूलों के साथ कोचिंग संस्थान भी बंद रहेंगे। हालांकि इस अवधि के दौरान स्कूल पूर्व निर्धारित परीक्षाएं करा सकते हैं। इस दौरान मुख्यमंत्री ने कोविड-19 टीकाकरण अभियान की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि रविवार से टीका उत्सव की शुरूआत हुई है। प्रदेश में 6 हजार केन्द्रों पर टीकाकरण कार्य जारी है। 85 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण हो चुका है। 

राजधानी लखनऊ में श्मशान घाटों का हाल काफी चिंताजनक है। शनिवार को भी देखने को मिला था जब दो श्मशान स्थलों पर अंतिम संस्कार के लिए 105 शव पहुंचे। इनमें काफी संख्या में संक्रमितों के शव भी बताए जा रहे हैं। शवों की संख्या बढ़ने से दिन भर दूर-दूर से आए लोगों को दाह संस्कार के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा। खास तौर पर विद्युत शवदाह गृह में लंबी लाइन थी। यहां रोजाना रात में दो-दो बजे तक अंतिम संस्कार हो रहा था।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर सोमवार को जिलों के अफसरों को काफी सख्त लहजे में चेताया है। उन्होंने कहा कि गलतफहमी में न रहें, लॉकडाउन नहीं लगेगा। हम जनता को मरने नहीं देंगे, बेड की शिकायत नहीं मिलनी चाहिए। पहले से पूरी तैयारी करें। आवश्यकतानुसार निजी हॉस्पिटलों और मेडिकल कॉलेजों का टेकओवर करें। उन्होंने जिलों में टेस्टिंग, ट्रेसिंग और ट्रीटमेंट पर जोर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here