दिवालिया घोषित होगी Videocon, बैंकों को लगेगा 90 हजार करोड़ रुपये का चूना।

समूह की इस घोषणा के बाद से 54 बैंकों की बैलेंस शीट पर असर पड़ने की संभावना है। समूह की दो कंपनियां वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड (VIL) और वीडियोकॉन टेलीकम्यूनिकेशन लिमिटेड (VTL) कर्ज के बोझ तले दबी हैं।

0
204

देश में एक और कंपनी ने खुद को दिवालिया घोषित करने की घोषणा कर दी है। Videocon समूह के चेयरमैन वेणुगोपाल धूत (Venugopal Dhoot) ने कहा है कि उनकी कंपनी पर 90 हजार करोड़ रुपये का बकाया है। पिछले साल कर्ज लौटाने में डिफॉल्ट के बाद SBI ने NCALT में याचिका दी थी। दिवालिया कानून के नियमों के मुताबिक कंपनी के बोर्ड को निलंबित कर दिया गया है। रोज के कामकाज के लिए रिजोल्यूशन प्रोफेशनल की नियुक्ति की गई है।

54 बैंकों की बैलेंस शीट पर असर
समूह की इस घोषणा के बाद से 54 बैंकों की बैलेंस शीट पर असर पड़ने की संभावना है। समूह की दो कंपनियां वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड (VIL) और वीडियोकॉन टेलीकम्यूनिकेशन लिमिटेड (VTL) कर्ज के बोझ तले दबी हैं।

54 कर्जदाताओं में से 34 बैंक
VIL पर 59,451.87 करोड़ रुपये और VTL पर 26,673.81 करोड़ रुपये का कर्ज है। VIL के 54 कर्जदाताओं में से 34 बैंक हैं। इन बैंकों में से VIL पर सबसे ज्यादा बकाया SBI का है। SBI का करीब 11,175.25 करोड़ रुपये बकाया है। VTLपर SBI का करीब 4,605.15 करोड़ रुपये बकाया है।

बैंक के कर्ज के अलावा 731 सप्लायर्स (ऑपरेशनल क्रेडिटर्स) की राशि भी इन कंपनियों पर बकाया है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सप्लायर्स के करीब 3,111 करोड़ 79 लाख 71 हजार 29 रुपये VIL पर बकाया हैं। वहीं VTL पर सप्लायर्स के करीब 1266 करोड़ 99 लाख 78 हजार 507 रुपये बाकी हैं।

इन बैंकों से लिया है लोन
VIL पर IDBI बैंक के 9,561.67 करोड़ रुपये, ICICI बैंक के 3,318.08 करोड़ रुपये बकाया हैं। जबकि VTL पर सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के 3,073.16 करोड़ रुपये और 1,439 करोड़ रुपये ICICI के बकाया है।ICICI बैंक के VIL पर 3,318.08 करोड़ और VTL पर 1,439 करोड़ रुपये बकाया हैं।

धूत पर है केस दर्ज
ICICI बैंक में जारी विवाद के बाद अब दिल्ली पुलिस ने एक और मामले में चार्जशीट दाखिल कर दी है। इस मामले में धूत को 7 साल तक की सजा हो सकती है।

यह है मामला
धूत के खिलाफ दो साल पहले तिरुपति सेरामिक्स के मालिक संजय भंडारी ने मामला दर्ज कराया था। तब भंडारी ने धूत के खिलाफ 30 लाख शेयर बिना बताए बेचने का आरोप लगाया था। यह सभी शेयर पहले भी किसी व्यक्ति को बेचे गए थे। इस ट्रांजेक्शन के बारे में धूत ने कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स को भी जानकारी नहीं दी थी।

बैंकों ने कर रखा है दिवालिया कोर्ट में केस
कई बैंकों ने वीडियोकॉन के खिलाफ दिवालिया कोर्ट और नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल में याचिका दायर कर रखी है। अभी तक NCALT ने 57 हजार करोड़ की रिकवरी के मामलों को स्वीकार कर लिया है।

पहली बार इस केस में आया था नाम
ICICI बैंक द्वारा वीडियोकॉन के मालिक वेणुगोपाल धूत को कर्ज देने के बदले बैंक की तत्कालीन सीईओ चंदा कोचर द्वारा घूस लेने का मामला है। घूस की रकम चंदा के पति दीपक कोचर की कंपनी न्यूपावर के खाते में जमा कराई जाती थी।

हर बार जितनी राशि का कर्ज चंदा कोचर ने ICICI बैंक से वीडियोकॉन को स्वीकृत किया, उसकी दस प्रतिशत रकम वीडियोकॉन या उसकी सहयोगी कंपनियों द्वारा न्यूपावर के खाते में जमा करा दी जाती थी। सारा काम कई कंपनियों के एक ताल के माध्यम से हो रहा था ताकि जांच एजेंसियों की निगाह से बचा जा सके।

ऐसे चला कर्ज और कमीशन का खेल
दिसंबर 2008 – वेणुगोपाल धूत, दीपक कोचर और उनका भाई राजीव कोचर साझेदारी में न्यूपावर रीन्यूएबल्स प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी स्थापित करते हैं।
चंदा कोचर 2009 में आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ बनती हैं।
जनवरी 2009 – धूत न्यूपावर के अपने 25000 शेयर ढाई लाख रुपये में दीपक कोचर को बेच देते हैं।
जून 2009 – धूत न्यूपावर से अपना शेयर निकाल कर अपनी कंपनी सुप्रीम एनर्जी में डाल देते है। यानी साझेदारी खत्म।
मार्च 2010 – धूत की सुप्रीम एनर्जी न्यूपावर को 64 करोड़ रुपये का कर्ज देती है।
मार्च 2012 – धूत सुप्रीम एनर्जी के सारे शेयर दीपक कोचर के पिनेकल ट्रस्ट को नौ लाख रुपये में बेच देते हैं। यानी कोचर धूत से लिया 64 करोड़ का कर्ज मात्र नौ लाख रुपये में अदा कर देते हैं।
अप्रैल 2012 – आईसीआईसीआई बैंक वीडियोकॉन समूह की पांच कंपनियों को 3250 करोड़ रुपये का कर्ज देता है।
अप्रैल 2012 – टैक्स हैवेन माने जाने वाले मारीशस की कंपनी फर्स्टलैंड होल्डिंग्स कोचर की न्यूपावर में 325 करोड़ रूपया डालती है। यानी कर्ज की राशि की दस फीसदी।
कर्ज की इस रकम में से 2810 रुपये यानी 86 प्रतिशत राशि आज तक अदा नहीं की गई है। बैंक ने 2017 में इसे एनपीए करार दे बट्टे खाते में डाल दिया।
अप्रैल 2012 – आईसीआईसीआई बैंक वीडियोकॉन समूह की टैक्स हैवन माने जाने वाले केमैन द्वीप स्थित कंपनी को 660 करोड रुपये का कर्ज देती है।
मॉरीशस स्थित डीएच रीन्यूएबल्स कोचर की न्यूपावर में 66 करोड़ रुपया डालती है। यानी कर्ज की राशि का दस फीसदी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here