Kanpur Encounter Case: बिल्हौर सीओ कार्यालय का कंप्यूटर सीज, विकास दुबे के खजांची के घर पर पुलिस ने मारा छापा

मंगलवार को आईजी रेंज लखनऊ लक्ष्मी सिंह ने बिल्हौर पहुंचकर बंद कमरे में एसओ बिल्हौर से पूछताछ की जिसके बाद सीओ कार्यालय बिल्हौर के कंप्यूटर व सीपीयू को सीज कर लिया गया है।

0
864

कानपुर एनकाउंटर (Kanpur Encounter) के दौरान आठ पुलिसकर्मियों की शहादत के बाद पुलिस महकमा कुख्यात विकास दुबे (Vikas Dubey) की तलाश में जुट गया है। चौबेपुर (Chaubepur) थाने से उसे सहायता मिलने की बात सामने आने के बाद थाने के सभी कर्मचारी जांच के दायरे में हैं।

मंगलवार को आईजी रेंज लखनऊ (IG Range, Lucknow) लक्ष्मी सिंह ने बिल्हौर पहुंचकर सीओ कार्यालय के सभी कर्मचारियों से पूछताछ की। उन्होंने बंद कमरे में एसओ बिल्हौर से पूछताछ की जिसके बाद सीओ कार्यालय बिल्हौर के कंप्यूटर व सीपीयू को सीज कर लिया गया है।

विकास दुबे (Vikas Dubey) की तलाश में जुटी पुलिस मंगलवार को उसके खजांची जय बाजपेई के घर पहुंची। पुलिस ने जय विला में छापेमारी कर तमाम जरूरी चीजें खंगाली। इसके साथ ही पुलिस ने विकास से संबंधित सभी वांछितों की फोटो के साथ एक पोस्टर भी जारी किया है।

वहीं पुलिस लाइन में तैनात 10 कांस्टेबलों को मंगलवार को ही चौबेपुर पुलिस स्टेशन (Chaubepur Police Station) में ट्रांसफर कर दिया गया है। सभी सिपाही पुलिस लाइन से चौबेपुर थाने भेजे गए है। आईजी रेंज कानपुर के मुताबिक चौबेपुर थाने का पूरा स्टाफ कानपुर एनकाउंटर के मामले में जांच के दायरे में हैं।

इस मामले में पहले ही पूर्व एसओ चौबेपुर की भूमिका को संदिग्ध मानते हुए उन्हें सस्पेंड कर दिया गया था। सोमवार को भी चौबेपुर थाने के तीन पुलिस कर्मियों की भूमिका संदिग्ध मिलने पर उन्हें भी सस्पेंड किया गया है। बताया जा रहा है चौबेपुर थाने के पुलिस कर्मियों के नंबर विकास के मोबाइल में मिले हैं।

जांच टीम पूरे चौबेपुर थाने (Chaubepur Police Station) को विकास दुबे का मुखबिर मानते हुए सभी से पूछताछ कर रहे हैं। बतां दे विकास को पकड़ने गई पुलिस पर घात लगाकर बैठे बदमाशों ने हमला कर दिया था। जिसमें आठ पुलिस कर्मी शहीद हो गए थे। घटना के बाद से पुलिस की सौ से अधिक टीमें विकास को पकड़ने के लिए दबिश दे रही है। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here