क्यों मेनका गांधी ने बेटे वरुण गांधी के लिए छोड़ी पीलीभीत की सीट?

लोकसभा चुनाव में ऐसा सीटों का फेरबदल दूसरी बार हुआ है, जब बेटे के लिए मां ने अपनी लोकसभा सीट पीलीभीत छोड़ी है।

0
216

लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections) के मद्देनजर मंगलवार को बीजेपी ने 39 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की। बीजेपी की लिस्ट के मुताबिक, वरुण गांधी (Varun Gandhi) और मेनका गांधी (Maneka Gandhi) की सीटों में फेरबदल किया गया है और अब उत्तर प्रदेश के पीलीभीत से वरुण गांधी और सुल्तानपुर से मेनका गांधी चुनाव लड़ेंगी। माना जा रहा है कि केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने अपने बेटे वरुण गांधी के लिए पीलीभीत की सीट छोड़ दी है, जहां से अब वरुण गांधी चुनाव लड़ेंगे। वरुण गांधी सुल्तानपुर से मौजूदा सांसद हैं, जो अमेठी लोकसभा सीट से काफी पास है और यहां के सांसद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी हैं। मेनका गांधी बेटे वरुण के संसदीय क्षेत्र सुल्तानपुर से चुनाव लड़ेंगी.

हालांकि, सीटों की अदला-बदली का कोई कारण नहीं बताया गया है, मगर सूत्र कहते हैं कि यह कदम मेनका गांधी ने खुद सुझाया था, क्योंकि उन्हें लगा कि वरुण गांधी सुल्तानपुर में मज़बूती से प्रचार कर सीट जीत सकते हैं . सूत्रों के मुताबिक यह सुझाव मेनका गांधी द्वारा उन आशंकाओं के बीच दिया गया जिनके मुताबिक वरुण गांधी को कांग्रेस के कद्दावर उम्मीदवार से शिकस्त मिल सकती है.

ऐसा सीटों का फेरबदल दूसरी बार हुआ है, जब बेटे के लिए मां ने अपनी लोकसभा सीट पीलीभीत छोड़ी है। इससे पहले 2009 में मेनका गांधी ने वरुण गांधी के लिए पीलीभीत की सीट छोड़ी थी और दूसरी बार अब यानी 2019 । हालांकि, सूत्र बता रहे हैं कि सुल्तानपुर में इस बार वरुण गांधी की स्थिति अच्छी नहीं है शायद इसी वजह से मेनका गांधी ने अपनी सीट की कुर्बानी दी है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here