दिल्ली में कोरोना पॉजिटिविटी रेट 5% के नीचे, कब खुलेगा लॉकडाउन ?

दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 5% के नीचे जाने से लॉक डाउन खुलने की चर्चा धीरे धीरे जोर पकड़ रही है. दिल्‍ली में पिछले 24 घंटों में 3009 नए मामले आए जबकि 252 की मौत हुई.

0
738

दिल्ली में कोरोना के मामले लगातार कम हो रहे हैं और पॉजिटिविटी रेट 5% के नीचे आ गया है जो कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक एक सुरक्षित स्तर है. ऐसे में क्या दिल्ली सरकार अब दिल्ली में लॉकडाउन हटाएगी? दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से आज जब ये सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा ‘शनिवार-रविवार को मैं एलजी से बात करूँगा.. और हम दोनों के बीच जो भी सहमति बनेगी, जो निर्णय लिया जायेगा मैं आपके सामने रखूँगा.

‘गौरतलब है कि दिल्ली में पॉजिटिविटी रेट 5% के नीचे जाने से लॉक डाउन खुलने की चर्चा धीरे धीरे जोर पकड़ रही है. दिल्‍ली में पिछले 24 घंटों में 3009 नए मामले आए जबकि 252 की मौत हुई. 1 अप्रैल के बाद सबसे कम नए मामले है. एक्टिव मामलों की संख्या भी 36,000 से नीचे हुई, 11 अप्रैल के बाद सबसे कम एक्टिव केस हैं.

गौरतलब है कि दिल्‍ली में ब्लैक फंगस से बढ़ते मामलों को देखते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने हाल ही में सभी अस्‍पतालों और डॉक्टर से अपील की है कि स्टेरॉयड का कम से कम इस्तेमाल करें. मरीज अपनी शुगर का खास ध्यान रखें. स्टेरॉयड और शुगर का मिश्रण होकर ब्लैक फंगस ज्यादा हो रहा है. सीएम ने कहा, ब्‍लैक फंगसके सके बारे में हम जनता को जागरुक भी करेंगे. इसके लिए डॉक्टरों की इंटर डिसीप्लिनरी कमिटी बनाने की जरूरत है जो मरीज का ख्याल रखेंगे. सीएम ने कहा कि ब्लैक फंगस के मरीजों का इलाज करने के लिए सरकारी अस्पतालों एलएनजेपी जीटीबी और राजीव गांधी हॉस्पिटल में विशेष इंतजाम किए हैं.

दिल्‍ली कोरोना अपडेट: 21 मई 2021
-दिल्‍ली में रिकवरी रेट 95.85%, एक्टिव मरीज़ 2.52% और डेथ रेट 1.62% है. पॉजिटिविटी रेट 4.76% है.

-पिछले 24 घंटे में 3009 नए मामले आए, अब तक कुल मामले 14,12,959 दर्ज हो चुके हैं.

-पिछले 24 घंटे में 7288 मरीज ठीक हुए. अब तक कुल 13,54,445 मरीज ठीक हो चुके हैं.
-पिछले 24 घंटे में हुई 252 मौतें हुई, अब तक कुल मौतों की संख्‍या22,831 हुई.

-एक्टिव मामलों की संख्‍या 35,683 है. पिछले 24 घंटों में 63,190 टेस्‍ट हुए. अब तक हुए कुल 1,85,95,993 टेस्‍ट हो चुके हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here