World Cup – टीम इंडिया की घोषणा हो चुकी है, एक नज़र उनके रिपोर्ट कार्ड पर।

विश्व कप 2019 (ICC World Cup 2019) के लिए भारतीय टीम की घोषणा सोमवार को हो गई है। टीम में अधिकांश वही खिलाड़ी हैं, जिनकी उम्मीद की जा रही थी।

0
626

विश्व कप 2019 (ICC World Cup 2019) के लिए भारतीय टीम की घोषणा सोमवार को हो गई है। टीम में अधिकांश वही खिलाड़ी हैं, जिनकी उम्मीद की जा रही थी। टीम प्रबंधन ने उन खिलाड़ियों को चुना है, जो 50 ओवर मैचों में कंसीस्टेंटली परफॉर्म कर रहे हैं। विजय शंकर का चुना जाना लगभग तय था, लेकिन नंबर 4 पर उनके खिलाए जाने ने चौंकाया है। ऋषभ पंत का न होना और दिनेश कार्तिक के होने ने भी हैरान किया है।

आइए एक नजर डालते हैं टीम के सभी खिलाड़ियों पर और जानते हैं पिछले एक साल में इन खिलाड़ियों का वनडे में प्रदर्शन कैसा रहा है।

विराट कोहलीः विराट कोहली पिछले कुछ सालों में दुनिया के महानतम बल्लेबाजों की श्रेणी में आ गये हैं। कोहली ने पिछले साल ही वनडे में 10 हजार रन पूरे किए हैं। कोहली लगातार अच्छी फॉर्म में है और उनमें टीम को आगे ले जाने की क्षमता है। विराट ने 2018 से अब तक 25 मैचों में 90.65 की औसत से 1813 रन बनाए हैं। इनमें 4 शतक और 9 अर्द्धशतक शामिल हैं।

रोहित शर्माः उप कप्तान रोहित जनवरी 2018 से वनडे में सबसे प्रतिभाशाली बल्लेबाज बन गए हैं। बड़ी पारियां खेलना और बड़े हिट लगाने की उनमें अद्भुत क्षमता है। रोहित ने 2018 से अब तक 32मैचों में 58.50 की औसत से 1586 रन बनाए हैं। इनमें 7अर्द्धशतक और 6शतक शामिल हैं।

शिखर धवनः बाएं हाथ के शिखर विश्व कप के एक अहम खिलाड़ी हैं। उनकी फॉर्म विपक्षी गेंदबाजों को बेहद परेशान करती है। इंग्लैंड में व्हाइट गेंद से उनका शानदार रिकार्ड रहा है। उन्हें बस कंसीस्टेंसी की जरूरत है। जनवरी 2018 से उन्होंने 32 मैचों में 43.50 की औसत से 1317 रन बनाए हैं। इनमें 4 अर्द्धशतक और 4 शतक शामिल हैं।

केएल राहुलः राहुल को बैकअप ओपनर के लिए चुना गया है। राहुल एक क्लासी बल्लेबाज हैं। दुर्भाग्य से वह मिले मौकों का लाभ नहीं उठा पाए हैं। उन्हें अंबाती रायूड के मुकाबले तरजीह दी गई है। राहुल विश्व कप में अपनी आईपीएल फॉर्म को जारी रखना चाहेंगे। जनवरी 2018 से अब तक उन्होंने 4 मैच खेले हैं, जिनमें 31.66 की औसत से एक अर्द्धशतक के साथ 95 रन बनाए हैँ।

महेंद्र सिंह धौनीः महेंद्र सिंह धौनी एक शानदार खिलाड़ी हैं। उनका भारतीय टीम में होना एक बड़ा सकारात्म बिन्दु है। विकेट के पीछे और बल्लेबाजी करते हुए वह हमेशा चौकस रहते हैं। विराट का उन पर बहुत भरोसा है। धौनी ने जनवरी 2018 से अब तक 21 मैचों में 40.13 की औसत से 4 अर्द्धशतकों के साथ 602 रन बनाए हैं।

दिनेश कार्तिकः टीम 20 में टीम में वापसी के बाद से कार्तिक एक विश्वसनीय बल्लेबाज बन गए हैं। टीम प्रबंधन ने उनके अनुभव के आधार पर ही ऋषभ पंत की जगह उन्हें चुना है। उनकी विकेटकीपिंग क्षमता और विशेषज्ञ बल्लेबाजी उनके लिए संभावनाओं के द्वार खोलेगी। जनवरी 2018 से अब तक उन्होंने 10 मैच खेले और 40.33 की औसत से बिना कोई शतक या अर्द्धशतक बनाए 242 रन बनाए।

केदार जाधवः महाराष्ट्र का यह बल्लेबाज गेंद और बल्ले दोनों से मैच विनर साबित हो सकते हैं। मुश्किल परिस्थितियों से टीम को बाहर निकालना वह बखूबी जानते हैं। कोहली इस आफ स्पिनर बल्लेबाज पर भरोसा करते हैं। जनवरी 2018 से अब तक जाधव 10 मैचों में 47.12 की औसत से 377 रन बना चुके हैं। साथ ही उन्होंने 5.11 की इकोनॉमी से 11 विकेट भी लिए हैँ।

हार्दिक पांड्याः पिछले साल से हार्दिक पांड्या का समय बहुत अच्छा नहीं चल रहा है। ‘कॉफी विद करण’ शो में महिलाओं पर अभद्र टिप्पणी की वजह से उन्हें टीम बाहर होना पड़ा, लेकिन टीम में वापसी के बाद से वह अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। जनवरी 2018 से अब तक वह 13 मैचों में 18.42 की औसत से 129 रन बना चुके हैं। उन्होंने 5.48 की इकोनॉमी से 9 विकेट भी लिए हैं।

विजय शंकरः विश्व कप टीम की घोषणा के बाद सुर्खियां बटोरने वाले विजय शंकर एक शानदार बल्लेबाज हैं। पिछले कुछ समय में ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उन्होंने अपनी खास पहचान बनाई है। उनका नंबर 4 पर खेलना एक साहसिक कदम होगा। जनवरी 2018 से अब तक उन्होंने 9 मैचों में 33 की औसत से 165 रन बनाए हैं। साथ ही 5.63 की इकोनॉमी से 2 विकेट भी लिए हैं।

कुलदीप यादवः कुलदीप यादव की वैरियेशन और लगातार विकेट लेने की क्षमता ने उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में एक पहचान दिलाई है। विश्व कप में वह भारत ट्रंफ कार्ड साबित हो सकते हैं। पिछले दो सालों में वह कोहली की सेना के सबसे मुस्तैद जवान बने हुए हैँ। जनवरी 2018 से कुलदीप ने 30 मैचों में 20.72 की औसत और 4.96 की इकोनॉमी से 65 विकेट लिए हैं। उनका बेस्ट प्रदर्शन 25 रन पर 6 विकेट रहा है।

युजवेंद्र चहलः चहल भी इस समय टीम इंडिया की जरूरत बन चुके हैं। जब चहल और यादव दोनों टीम में होते हैं तो विपक्षी टीम के लिए उन्हें खेलना मुश्किल होता है। ब्रेक थ्रू दिलाने में चहल माहिल हैं। जनवरी 2018 से अब तक चहल ने 24 मैचों में 24.33 की औसत और 5.04 की इकोनॉमी से 45 विकेट लिए हैं। उनका बेस्ट प्रदर्शन 42 रन पर 6 विकेट है।

रविंद्र जडेजाः बहुत से लोगों को यह उम्मीद नहीं थी कि जडेजा की टीम में वापसी होगी। लेकिन एशिया कप में वह वनडे टीम में लौटे और दोबार अपनी जगह बनाई। विकेट लेने के साथ साथ जडेजा में बल्लेबाजी की क्षमताएं भी हैँ। जनवरी 2018 से अब तक वह 15 मैचों में 17.28 की औसत से 121 रन बना चुके हैं और 4.75 की इकोनॉमी से 19 विकेट ले चुके हैं।

जसप्रीत बुमराहः क्रिकेट के तीनों ही फॉर्मेट में बुमराह एक बेहतरीन गेंदबाज साबित हुए हैं। उन्हें विराट का पसंदीदा गेंदबाज माना जाता है। वनडे क्रिकेट में वह दुनिया के नंबर 1 गेंदबाज हैं। जनवरी 2018 से अब तक वह 18 मैचों में 21.03 की औसत और 4.07 की इकोनॉमी से 29 विकेट ले चुके हैं। 35 रन पर 4 विकेट उनका बेस्ट प्रदर्शन रहा है।

भुवनेश्वर कुमारः अगर बुमराह की गति और वैरिएशन में काबिलियत है तो भुवनेश्वर के पास गेंद को ऑफ स्टंप के बाहर स्विंग कराने में महारथ हासिल है। यदि कंडीशंस उनके पक्ष में हो तो वह एक खतरनाक गेंदबाज हैं। जनवरी 2018 से अब तक उन्होंने 24 मैचों में 32.06 की औसत और 5.28 की इकोनॉमी से 30 विकेट लिए हैं। 45 रन पर 4 विकेट उनका बेस्ट प्रदर्शन है।

मोहम्मद शमीः ऑस्ट्रेलिया के दौरे के बाद से भारतीय टीम में सबसे अच्छा बात रही मोहम्मद शमी की फॉर्म। शमी की फॉर्म विराट कोहली के लिए एक खरतानक अस्त्र की तरह है। डेथ ओवरों में वह बहुत उम्दा गेंदबाजी करते हैं। जनवरी 2018 से अब तक उन्होंने 13 मैचों में 29.18 की औसत और 5.45 की इकोनॉमी से 22 विकेट लिए हैं। 19 रन पर 3 विकेट उनका बेस्ट प्रदर्शन रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here