अगर मुझे मालूम होता कि सुनील जाखड़ यहां से चुनाव लड़ रहे हैं तो सनी को मना कर देता – धर्मेंद्र

अभिनेता धर्मेंद्र ने कहा है कि वे सनी देओल को गुरदासपुर से चुनाव लड़ने के लिए मना कर देते अगर उन्हें पता होता कि वहां से कांग्रेस सांसद सुनील जाखड़ मैदान में हैं।

0
127

Gurdaspur, Punjab: अभिनेता धर्मेंद्र (Dharmendra) ने कहा है कि वे अपने बेटे सनी देओल (Sunny Deol) को गुरदासपुर से चुनाव लड़ने के लिए मना कर देते अगर उन्हें पता होता कि वहां से कांग्रेस सांसद सुनील जाखड़ (Sunil Jakhar) मैदान में हैं।

ANI के अनुसार, धर्मेंद्र ने कहा कि बलराम जाखड़ मेरे भाई की तरह थे, अगर मुझे यह मालूम होता कि सुनील जाखड़ यहां से चुनाव लड़ रहे हैं तो सनी को मना कर देता।

धर्मेंद्र ने कहा कि वह (Sunil Jakhar) भी मेरे बेटे जैसा है। मेरे और सुनील के पिता बलराम जाखड़ के रिश्ते बहुत मजबूत थे। वहीं, धर्मेन्द्र अपने 59 वर्षीय पुत्र के लिए प्रचार करने गुरदासपुर पहुंचे थे। उन्होंने पत्रकारों से कहा कि वह यहां लोगों के दुख दर्द को समझने के लिए आये हैं।

जब उन्हें यह बताया गया कि इस सीट से कांग्रेस उम्मीदवार सुनील जाखड़ ने स्थानीय मुद्दों पर बहस करने के लिए देओल को आमंत्रित किया है तो धर्मेन्द्र ने कहा, ‘हम यहां बहस करने नहीं आये है, बल्कि लोगों के दर्द को सुनने अवश्य आये है।’

धर्मेंद्र ने कहा, ‘सनी बहस नहीं कर सकते है। सुनील के पास (राजनीति का) अनुभव है और उनके पिता (बलराम जाखड़) भी एक राजनीतिक थे। हम फिल्म जगत से आए हैं। हम यहां बहस के लिए नहीं आए हैं। हम यहां लोगों का दर्द सुनने आए हैं।’ धर्मेन्द्र ने कहा कि सुनील जाखड़ उनके बेटे की तरह हैं क्योंकि उनके पिता और लोकसभा के पूर्व अध्यक्ष बलराम जाखड़ के साथ उनके अच्छे संबंध थे।

धर्मेंद्र ने कहा कि उन्होंने 2004 के लोकसभा चुनावों में राजस्थान की चुरू सीट से बलराम जाखड़ के खिलाफ चुनाव लड़ने से मना कर दिया था। इसके बाद धर्मेन्द्र ने भाजपा के टिकट पर बीकानेर सीट से चुनाव लड़ा था। धर्मेन्द्र ने कहा, मैं मुम्बई से सनी का रोड शो देख रहा था और रोड शो में बहुत भारी भीड़ थी। मैं भावुक हो गया था। मैं जानता हूं कि लोग हमें प्यार करते हैं लेकिन मैं इतना प्यार देखकर हैरान था।

धर्मेंद्र ने कहा कि उन्हें एक बार भाजपा द्वारा पटियाला सीट से चुनाव लड़ने के लिए कहा गया था, लेकिन उन्होंने इनकार कर दिया था। अभिनेता ने कहा, ‘मैंने उनसे कहा कि अमरिंदर सिंह परिवार मुझे बहुत प्यार करता है और उनकी पत्नी (परनीत कौर) मेरी बहन की तरह है और उनसे कहा कि मैं पटियाला से चुनाव नहीं लडूंगा।’

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here